रहने के लिहाज से दुनिया का दूसरा सबसे सस्ता देश भारत

नई दिल्ली: हाल ही में 112 देशों के बीच किए गए सर्वे में सामने आया है कि सेवानिवृत्ति के लिहाज से भारत दुनिया का दूसरा सबसे सस्ता देश है। पहले स्थान पर दक्षिण अफ्रीका रहा है। यह सर्वेक्षण गो बैंकिंग रेट्स ने किया है। उसने देशों की रैंकिंग चार प्रमुख मानकों पर तय की है। इसके लिए उसने नमबियो द्वारा ऑनलाइन जुटाए गए आंकड़ों का आकलन किया। सर्वेक्षण में स्थानीय क्रयशक्ति सूचकांक, किराया सूचकांक, आम उपभोग की वस्तुओं के (ग्रॉसरी) सूचकांक और उपभोक्ता मूल्य सूचकांक मानकों के आधार पर रैंकिंग की गई है।

दुनिया के 50 सबसे सस्ते देशों में किराया सूचकांक में भारत दूसरे क्रम पर है। उससे ऊपर सिर्फ पड़ोसी देश नेपाल का नाम आता है। इस हिसाब से अन्य देशों के मुकाबले रहने के लिए भारत सबसे सस्ता देश है। उपभोक्ता सामान और ग्रॉसरी की कीमतों के हिसाब से भी भारत सबसे सस्ता देश है। कोलकाता शहर में 285 डॉलर मासिक खर्च में एक अकेला व्यक्ति अपनी गुजर-बसर कर सकता है।

सर्वेक्षण के हिसाब से 125 करोड़ की आबादी वाला भारत दुनिया के 50 सबसे सस्ते और ज्यादा आबादी वाले देशों में से एक है। यहां प्रमुख उद्योग कपड़ा, रसायन और खाद्य प्रसंस्करण हैं। इसके अलावा भारत के कई शहरों स्थानीय क्रयशक्ति भी अधिक है। सर्वेक्षण के अनुसार भारतीयों की स्थानीय क्रयशक्ति 20.9 फीसदी सस्ती, किराया 95.2 फीसदी सस्ता, ग्रॉसरी की कीमत 74.4 फीसदी सस्ती और स्थानीय सामान और सेवाएं 74.9 फीसदी सस्ती है। भारत के पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान का इस सूची में 14वां स्थान है। इसके अलावा कोलंबिया का 13वां, नेपाल का 28वां और बांग्लादेश का 40वां स्थान है। इन सभी देशों की इन चारों मानकों पर तुलना अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर से की गई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper