राज्य में आतंकित करने की राजनीति कर रही है कांग्रेस: शिवराज

भोपाल: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उपाध्यक्ष एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज राज्य की कांग्रेस सरकार पर तीखा हमला करते हुए कहा कि सरकार आतंकित करने की राजनीति कर रही है।

लोकसभा चुनाव की पार्टी की तैयारियों में जुटे श्री चौहान ने यहां प्रदेश भाजपा कार्यालय में मीडिया के सवालों के जवाब में कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ संभावित पराजय से बौखलाए हुए हैं। एक कहावत है, नाच न जाने, आंगन टेड़ा। संभालना आ नहीं रहा है। स्थिति संभल नहीं रही है और कर्मचारियों पर लट्ठ चला रहे हैं। आउटसोर्स वालों को देख लेंगे। सारे के सारे निकाल देंगे। सस्पेंड कर देंगे। नौकरी से निकाल देंगे। ये आतंकित करने की राजनीति यहां ये सरकार कर रही है।

वरिष्ठ भाजपा नेता ने कहा कि अगर नियंत्रण नहीं है तो क्यों कुर्सी पर बैठे हो। शर्म आना चाहिए, ऐसे मंत्रियों को, जो कह रहे हैं कि भारतीय जनता पार्टी षडयंत्र कर रही है। और इसलिए हम ये नहीं कर पा रहे हैं। यदि नहीं कर पा रहे हो, तो सरकार में क्यों बैठे हो। श्री चौहान ने कहा कि गेंहू ठीक से खरीद नहीं पा रहे। किसानों को पेमेंट कर नहीं रहे। धान उठा नहीं रहे। पोर्टल खुल नहीं रहा है।

जनता बर्बाद है और त्राहि त्राहि कर रही है और दोष भारतीय जनता पार्टी को दे रहे हो। अगर स्थिति संभल नहीं रही, तो हटो कुर्सी से। दरअसल राज्य में बिजली संकट संबंधी खबरें आ रही हैं। इसके चलते सरकार ने बिजली और अन्य विभागों से जुड़े लगभग तीन सौ कर्मचारियों पर कार्रवाई की है। इसी से जुड़े सवाल श्री चौहान से किए गए थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper