रात को सोने से पहले 1 लौंग खाने से होते हैं जबरदस्त फायदे

हिंदू धर्म में लौंग का इस्तेमाल पूजा में किया जाता है और खाने में खड़े मासलों के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है. लौंग को मसालों के साथ खाने में डालने से सब्जी का जायका ही बदल जाता है. इसके अलावा अक्सर लोग लौंग को मुंह फ्रेश करने के लिए भी चबाते हैं. लौंग गर्म होती है इसलिए इसे बहुत कम ही खाया जाता है लेकिन एक लौंग का असर इतना बड़ा होता है कि आपको यकीन करना मुश्किल हो जायेगा.

लौंग में कई सारे गुण मौजूद होते हैं जिसे चबाने से पूरे दिन ताजगी और पेट साफ रहता है. सुबह होते ही आपको पेट लेकर बैठने की जरूरत नहीं पड़ेगी. लौंग में इम्यून बूस्टर मौजूद होता है प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाये रखता है. लौंग के सेवन से कमजोरी खत्म हो जाती है. कई लोगों के हाथ-पैर कांपते हैं ऐसे में हर रोज रात को सोने से पहले एक लौंग का सेवन जरूर करें, कुछ दिन बाद आपके हाथ-पैर कांपने बंद हो जायेंगे. सिर दर्द में अगर कोई दवाई घर में नहीं है तो 2-3 लौंग को पीस लें और गुनगुने पानी के साथ खा लें.

शरीर के किसी भी पार्ट में अगर आपको चोट लग गई हो और वो नासूर बन रहा हो यानि वो चोट पक रही हो तो उस चोट में लौंग पीस कर उसमें हल्दी मिलाकर लगाएं. उस चोट का नासूर बनना खत्म हो जाएगा. बहुत से लोगों के आंखों के सफेद हिस्से में नेत्ररोग हो जाता है. जिससे कारण उन्हें कम दिखने लगता है. ऐसे में तांबे के बरतन में लौंग पीस कर और उसमें थोडा शहद मिला कर खाने से भी लाभ होता है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper