रामपुर के कलंक को मिटाने के लिये आगे आये जनता : योगी

रामपुर: समाजवादी पार्टी (सपा) के कद्दावर नेता आजम खान का नाम लिए बगैर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा कि रामपुर के कलंक को मिटाने और लोकतंत्र स्थापित करने के लिये जनता को एकजुट होकर आगे आना होगा।

श्री योगी ने तीसरे चरण के चुनाव प्रचार के अंतिम दिन रठौडा शिव मंदिर परिसर में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुये कहा “ अबकी बार मतदान के जरिए रामपुर के कलंक को मिटाना है। यहां के कलंक को खत्म कर लोकतंत्र स्थापित करने के लिए हमें एकजुट होकर सामने आना होगा। अब हमें ना मौन रहना है और ना ही अपराधी के साथ खड़ा होना है।” भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) प्रत्याशी जयाप्रदा के पक्ष में वोट की अपील करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि रामपुर में लोकतंत्र को स्थापित करना है तो इसके लिए भाजपा प्रत्याशी का यहां से जीतना जरूरी है। जो बहन और बेटियों पर बदजुबानी करने वाले के लिए वोट मांगे, क्या वह आधी आबादी का अपमान नहीं है। सपा बसपा गठबंधन को लोकनिंदा का कतई भी भय नही है।

चुनावी रैली में योगी ने कहा कि भारत की कला और संस्कृति के लिए जयाप्रदा समर्पित हैं। रामपुर देश-दुनिया में जाना जाता है। यहां की रजा लाइब्रेरी दुनियाभर में मशहूर हैं। रामपुर कभी चाकू के लिए प्रसिद्ध था। इस परंपरा को आगे बढ़ाने की जरूरत है। परंपरा को, गौरव को, दलित, नौजवान के हितों के सम्मान को बढ़ाने का काम भाजपा कर रही है, दूसरी ओर परंपरा को अपमानित करने वाले लोग हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper