रामानंद सागर के राम को टक्कर दे पाए सिर्फ बीआर चोपड़ा के राम, तब स्मृति ईरानी बनी थीं सीता

भारत में अस्सी-नब्बे के दशक को बदलाव के दौर के रूप में देखा जाता है। इस दौरान लोगों को एक नई दुनिया देखने को मिली। इसी दुनिया के सामानांतर चलते हुए भारत भी काफी बदल चुका है। इस दौर में देश को सबसे मशहूर शो रामायण मिला। आज तकरीबन तीस साल बाद भी इसका करिश्मा बरकरार है। कहा जाता है कि उस समय ऐसे हालात थे कि रामायण के प्रसारण के समय सड़कों पर कर्फ्यू जैसे हालात हो जाते थे। गुजरे जमाने से लेकर आज तक जब भी टीवी पर रामायण का प्रसारण हुआ लोगों की नजरें राम और रावण का पीछा करती नजर आईं। सच और झूठ की इस लड़ाई में दोनों की ही अपनी विचारधारा थी जिसे लेकर युद्ध हुआ और राम ने रावण का संहार किया। आज हम आपको पिछले 33 सालों में राम और रावण के किरदार निभाने वाले मुख्य कलाकारों से अवगत कराने जा रहे हैं।

रामायण (1987)
रामानंद सागर की यह रामायण आज तक टीवी पर सबसे अधिक पसंद की गई रामायण में एक है। इस शो में राम का किरदार अरुण गोविल तो वहीं रावण के रूप में अरविंद त्रिवेदी ने आंतक मचाया था। सीता का किरदार दीपिका चिखलिया, लक्ष्मण का किरदार सुनील लहरी और हनुमान का किरदार दारा सिंह निभाया करते थे। इस शो को लेकर लोगों में इतना उत्साह था कि इसके प्रसारण के समय सड़कें खाली हो जाया करती थी। इस शो 82 प्रतिशत व्यूअरशिप हुआ करती थी। आज भी इस शो का लेकर ऐसा उत्साह है कि तकरीबन 30 साल बाद भी लोग इसे अपने परिवार के साथ बैठकर देखते हैं।

रामायण (2001-2002)
बलदेव राज चोपड़ा और रवि चोपड़ा के निर्देशन में बने इस शो में नितीश भारद्वाज ने राम का किरदार तो वहीं सुरिंदर पाल ने रावण का किरदार निभाया था। जी टीवी के इस शो में स्मृति ईरानी ने सीता का किरदार तो गजेन्द्र चौहान ने दशरथ का किरदार निभाया। इसे पिछली रामायण की तरह शोहरत तो नहीं मिल पाई थी हालांकि इसे भी लोगों द्वारा प्यार मिला।

रावण (2005)
इस शो में राम का किरदार दिवाकर पुंडीर ने तो वहीं रावण के रूप में नरेन्द्र झा नजर आए। साल 2006 में जी टीवी पर टीवी सीरियल रावण की शुरुआत हुई। यह शो रामायण पर ही आधारित था लेकिन इसे रावण के दृष्टिकोण से बनाया गया था। कुल मिलाकर इस शो में दर्शकों को यह देखने को मिला था कि आखिर रावण, लंकापति रावण कैसे बना। कैसे शिवभक्त होते हुए भी उसके अंदर अहंकार ने घर कर लिया। कैसे वह दूसरों पर अत्याचार करने लगा। शो में रावण की मनोदशा के बारे में विस्तार से देखने को मिलता था। इस शो का निर्देशन रंजन सिंह ने किया था। इस शो के तीन सीजन प्रसारित किए गए जिसके कुल 105 एपिसोड्स थे। इस शो ने तकरीबन दो साल तक लोगों का मनोरंजन किया।

रामायण (2008)
नए कलेवर के साथ बनाई गई इस रामायण में गुरमीत चौधरी जहां राम के किरदार में तो वहीं अखिलेश मिश्रा ने रावण का रोल प्ले किया था। इस रामायण को खुद रामानंद सागर के बेटे आनंद सागर ने बनाया था। लोगों के द्वारा यह रामायण पसंद तो की गई लेकिन पिता द्वारा हासिल की शोहरत के तुलना में यह रामायण वैसा कमाल नहीं दिखा सकी। शो में गुरमीत से लेकर अखिलेश मिश्रा के अदाकारी को लोगों से अच्छी प्रतिक्रिया हासिल हुई।

रामायण (2012)
जी टीवी पर साल 2012 में फिर एक बार रामायण लोगों के सामने परोसी गई। इस शो से लोगों को उम्मीदें तो काफी थी हालांकि इस बार यह शो लोगों द्वारा सिरे से नकार दिया गया। यह शो कब आया और कब चला गया पता ही नहीं चला। इस रामायण में राम का किरदार गगन मलिक ने तो रावण का किरदार सचिन त्यागी ने निभाया।

राम सिया के लवकुश (2019)
इस शो का प्रसारण इस साल फरवरी में बंद हुआ है। इस शो में राम सीता और लव कुश को मुख्य तौर पर दिखाया गया है। हालांकि जहां भी राम का जिक्र होता है वहां रावण का नाम भी होता है। शो में राम का किरदार हिमांशु सोनी ने तो वहीं शालीन भनोट ने रावण को रोल प्ले किया था। यह शो 5 अगस्त 2019 से 10 फरवरी 2020 तक कलर्स टीवी पर प्रसारित हुआ। इस शो के कुल 141 एपिसोड्स टेलीकॉस्ट हुए जिसका निर्देशन सिद्धार्थ कुमार तिवारी ने किया था।

amar ujala से साभार

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper