रायबरेली में पोस्टर पॉलिटिक्स शुरू, जगह-जगह लगे प्रियंका के लापता होने के पोस्टर

रायबरेली। देश में होने वाले लोकसभा चुनाव में अभी भले ही समय बाकी हो लेकिन रायबरेली में पोस्टर पॉलिटिक्स की शुरुआत हो गई है। कांग्रेस के गढ़ रायबरेली में रविवार देर रात जगह-जगह प्रियंका गांधी के लापता होने के पोस्टर लगाए गए हैं, जिसमें कांग्रेस की स्टार प्रचारक प्रियंका गांधी को ‘इमोशनल ब्लैकमेलर’ बताया गया है।

इतना ही नहीं पोस्टर के माध्यम से प्रियंका से सवाल भी पूछा गया है कि आप रायबरेली कब आएंगी क्योंकि इस बीच रायबरेली में कई बड़े हादसे हुए जिसमें प्रियंका वाड्रा नजर नहीं आई हैं। ऐसे में कांग्रेस विरोधियों को कांग्रेस नेता प्रियंका पर हमला करने का मौका मिल गया है। कांग्रेस के विरोधियों ने प्रियंका वाड्रा के लापता होने को लेकर जगह-जगह पोस्टर लगाए हैं। साथ ही लोगों को पम्पलेट्स भी बांटे गए हैं। ये पोस्टर रायबरेली में त्रिपुला चौराहे से लेकर हरदासपुर तक और शहर में कई जगह लगाए गए हैं।

दिवाली के दौरान ट्रकों का देशव्यापी चक्काजाम!

सोमवार सुबह जब रायबरेली के लोग जगे तो सड़कों पर देखा कि प्रियंका गांधी को ”इमोशनल ब्लैकमेलर बताते हुए पूरे जिले में पोस्टर लगे हुए हैं। पोस्टर में ‘मैडम प्रियंका वाड्रा लापता’ लिखा है। पोस्टर में हरचंपुर रेल हादसा, ऊंचाहार दुर्घटना और रालपुर हादसे में प्रियंका गांधी के न आने पर तंज कसते हुए लिखा गया है कि नवरात्र, दुर्गा पूजा व दशहरा में तो नहीं दिखाई दी। अब क्या ईद में दिखेंगी मैडम वाड्रा ? जबकि वह रायबरेली से अपने रिश्तों की दुहाई देते हुए नहीं थकतीं।

प्रियंका पर कटाक्ष करते हुए स्लोगन ‘अंखिया थक गई पंथ निहार, आजा परदेशी एक बार’ भी लिखा गया है। प्रियंका गांधी के बारे में एवं उनके रायबरेली के रिश्तों की दुहाई देने पर कटाक्ष करने वाले इन पोस्टरों की जिले में काफी चर्चा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper