राष्ट्रद्रोह के खिलाफ ऐसा सख्त कानून बनेगा, जिससे रूह कांप उठे : राजनाथ

लखनऊ: केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को यहां कहा कि सत्ता में आते ही राष्ट्रद्रोह के खिलाफ ऐसा सख्त कानून बनाया जाएगा, जिससे रूह कांप उठेगी। राजनाथ ने यहां मतदाता जागरूकता कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, “अगली बार केंद्र की सरकार में आते ही हम जम्मू एवं कश्मीर से अनुच्छेद 370 व 35ए खत्म कर देंगे। कुछ संगठनों को छोड़कर कश्मीर की अधिकांश जनता भारत के साथ है। राष्ट्रद्रोह के खिलाफ ऐसा सख्त कानून बनाया जाएगा, जिससे रूह कांप उठे।”

उन्होंने कहा, “कुछ संगठन देश विरोधी हैं। यह बहुत बड़ी साजिश है कि वहां के कुछ संगठन स्थानीय जनता के मन में अलगाववाद की भावना पैदा करना चाहते हैं। भारत की अर्थव्यवस्था चार साल में बहुत सुधरी है। आगामी पांच सालों में हम विश्व की शीर्ष तीन अर्थव्यवस्थाओं में शामिल होंगे।”

लखनऊ संसदीय सीट से भाजपा उम्मीदवार राजनाथ ने मोदी सरकार की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए कहा, “विगत पांच वर्षो में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनकी सरकार ने जितना काम किया है, उसकी प्रशंसा देश में ही नहीं, विदेश में भी हो रही है। आज भारत विश्व में सबसे तेज आर्थिक वृद्घि करने वाला राष्ट्र बन गया है और अगर यही रफ्तार जारी रही तो 2030 तक हम विकसित राष्ट्रों की श्रेणी में आ जाएंगे।”

राजनाथ ने प्रबुद्घ वर्ग के सम्मेलन में कहा, “बुद्घिजीवियों के सम्मेलन में अच्छा लग रहा है। लेकिन हम कभी जाति-धर्म की राजनीति नही करते। विश्व में स्वामी विवेकानंद ने पहली बार भारतीय संस्कृति का परचम फहराया था। राजनीति में मर्यादा तार तार हो रही है। प्रधानमंत्री के विरुद्घ जैसे शब्द इस्तेमाल हो रहे हैं, वह ठीक नहीं है। राजनीति शब्द अपना अर्थ खोता जा रहा है। इसे फिर के बदलने का हम सभी को संकल्प लेना चाहिए।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper