राहुल गांधी के खिलाफ संसद में महिला सांसदों ने खोला मोर्चा

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी के ‘रेप इन इंडिया’ (भारत में दुष्कर्म) वाली टिप्पणी पर शुक्रवार को उन्हें निशाने पर लिया और इसे दुखद बताया और कहा कि कांग्रेस नेता दुष्कर्म पर राजनीति कर रहे हैं। स्मृति ने राहुल की मां व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से राहुल को सलाह देने और उनका मार्गदर्शन करने का आग्रह किया है। स्मृति ने पूर्व कांग्रेस प्रमुख के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।

राहुल गांधी ने गुरुवार को झारखंड में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री के प्रोजेक्ट ‘मेक इन इंडिया’ पर चुटकी लेते हुए कहा था, “पहले ‘मेक इन इंडिया’ था, लेकिन अब यह ‘रेप इन इंडिया’ बन गया है।” संसद के बाहर मीडिया से बातचीत में ईरानी ने कहा कि कांग्रेस नेता इस हद तक कैसे गिर सकते हैं, जिनकी टिप्पणी का मतलब ‘पुरुषों को भारत में दुष्कर्म करने के लिए आमंत्रित करने जैसा है।’ लोकसभा के अंदर राहुल पर निशाना साधते हुए ईरानी ने कहा, “देश के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि गांधी परिवार के किसी व्यक्ति ने महिलाओं का अपमान करने और उनके दुष्कर्म का आह्वान करने की धृष्टता की है।

बीजेपी की सांसद लॉकेट चटर्जी ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी मेक इन इंडिया की बात करते हैं और राहुल गांधी ने रेप इन इंडिया की बात कही। उनका कहना है कि आओ और हमारे यहां की महिलाओं का रेप करो। यह भारत की महिलाओं और भारत माता का अपमान है। एमके सांसद कनिमोझी ने कहा कि यह बयान ‘संसद के बाहर’ दिया गया था।

इस पर पलटवार करते हुए मंत्री ने कहा कि महिलाओं के खिलाफ अपराध के खिलाफ आवाज उठाना कम से कम एक ऐसा काम है, जो एक सांसद कर सकता है। स्मृति ईरानी ने कहा, “मैं बहुत निराश हूं कि एक महिला होने पर भी आप (कनिमोझी) पार्टी लाइन से परे नहीं जा सकती हैं और महिलाओं के खिलाफ अपराध पर अपनी आवाज नहीं उठा सकती हैं।”

दोषी अक्षय के खिलाफ निर्भया की मां ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की हस्तक्षेप याचिका

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper