राहुल गांधी ने की मोदी सरकार की तारीफ, वित्तीय सहायता पैकेज पर बोले- सही दिशा में उठाया पहला कदम

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पहली बार मोदी सरकार के किसी बड़े फैसले की तारीफ की है। केंद्र सरकार की ओर से लॉकडाउन के दौरान गरीबों के लिए राहत पैकेज की घोषणा की तारीफ करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि इस सरकार ने सही दिशा में पहला कदम उठाया है। वैसे तो राहुल गांधी मोदी सरकार को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ते लेकिन, पहली बार उनका अंदाज-ए-बयां चौंकाने वाला नजर आया है।

राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, “सरकार ने वित्तीय सहायता पैकेज की घोषणा की यह सही दिशा में पहला कदम है। भारत अपने किसानों, दिहाड़ी मजदूरों, श्रमिकों, महिलाओं और बुजुर्गों का कर्जदाज है जो इस बंद में दिक्कतों का सामना कर रहे हैं।”

इससे पहले राहुल गांधी ने कहा था कि कोरोना महामारी से निपटन जा सकता है, लेकिन उसके लिए सरकार में दृढ़ इच्छाशक्ति का होना बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा था कि लॉकडाउन जैसे कदम तो ठीक हैं, लेकिन सिर्फ इसी पर टिके रहना भारी भूल होगी। उन्होंने विशेष आपातकालीन अस्पतालों के विस्तार का सुझाव भी दिया था।

बता दें कि वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कोरोना वायरस के प्रकोप के खिलाफ सरकार द्वारा छेड़ी गई जंग से प्रभावित गरीबों और मजदूरों की कठिनाइयों को देखते हुए आज 1,70,000 करोड़ रुपये के राहत पैकेज के रूप में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज की घोषणा की। इसके तहत स्वास्थ्य के क्षेत्र में इस संकट से निपटने में जुटे स्वास्थ्यकर्मियों को 50 लाख रुपये का जीवन बीमा, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत 80 करोड़ गरीबों को अतिरिक्त अनाज देने जैसी व्यवस्था शामिल है। यही नहीं तीन करोड़ दिव्यांग, बुजुर्ग और विधवाओं को अतिरिक्त आर्थिक सहायता और उज्ज्वला योजना के तहत 8 करोड़ महिलाओं को तीन महीने तक मुफ्त एलपीजी रिफिल की भी घोषणा की गई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper