राहुल गांधी बोले- यह वक्त सरकार की आलोचना करने का नहीं, अब हमें लॉकडाउन खोलने की जरूरत

नई दिल्ली. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को कोरोना वायरस को लेकर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पत्रकारों से चर्चा की। इस दौरान उन्होंने कहा, जो लोग लॉकडाउन से जूझ रहे हैं, हम उनकी मदद किए बिना लॉकडाउन को जारी नहीं कर सकते। उन्होंने कहा, मैं केंद्र सरकार से अपील करता हूं कि वह राज्य सरकारों और जिलाधिकारियों को स्वतंत्र तौर पर फैसला करने की अनुमति दे। उन्होंने कहा, अगर हम कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई को प्रधानमंत्री दफ्तर तक रखेंगे तो हम इसे हार जाएंगे।

राहुल ने कहा, यह वक्त समय गंवाने का नहीं है। बल्कि अर्थव्यवस्था को शुरू करने का है। उन्होंने कहा, कोई भी उद्योगपति आपको बता सकता है कि रेड, ग्रीन और ऑरेंज जोन में किस तरह से उसे मुश्किलें हो रही हैं। इन्हें जल्द हटाने की जरूरत है। राहुल ने कहा, यह वक्त सरकार की आलोचना करने नहीं है। लेकिन अब सरकार को लॉकडाउन हटाने का फैसला करना चाहिए। इसके अलावा हर परिवार को 7500 रुपए की राशि तुरंत देनी चाहिए।

राहुल गांधी ने कहा कि सूक्ष्म लघु मध्यम उद्योग को क्रेडिट सुरक्षा योजना, छह महीने की ब्याज सब्सिडी देने की जरूरत है। इसके अलावा बड़े उद्योगों को भी सुरक्षा देने की आवश्यकता है। राहुल गांधी ने कहा, भारत में आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए घरेलू खपत शुरू करने की जरूरत है। उन्होंने कहा, घरेलू खपत ही अर्थव्यवस्था की जीवन रेखा है।

6 साल का लड़का निकला प्रेग्नेंट, डॉक्टर्स के भी होश उड़ा दिया ये केस !

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper