रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने लोगों को घरों में बंद रखने के लिए सड़कों पर छोड़े 800 शेर!

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के चलते दुनिया भर में तबाही मचा कर रखी हुई है। हर दिन सैकड़ों लोगों की जान जा रही है। कई देशों के शहरों को लॉकडाउन कर दिया गया है। इसी बीच सोशल मीडिया पर रूस का एक मैसेज वायरल हो रहा है। इसमें दावा किया जा रहा है कि राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन लोगों से कोरोना वायरस के चलते घरों में रहने की अपील कर रहे हैं लेकिन लोग मान नहीं रहे हैं। लिहाजा उन्होंने वहां की सड़कों पर 800 शेर और बाघ को छोड़ दिए हैं।

पुतिन का ये मैसेज अलग-अलग सोशल मीडिया पर किसी जंगल की आग तरह फैल रहा है। लोग अलग-अलग प्लैटफॉर्म पर इसे धड़ाधड़ शेयर कर रहे हैं। ट्विटर पर किसी ने एक मैसेज शेयर करते हुए लिखा है कि पुतिन ने रूस के लोगों को दो विकल्प दिए या तो वे दो हफ्ते के लिए घरों में रहे या फिर 5 साल के लिए जेल में। बीच का कोई रास्ता नहीं है। लोग घर से न निकले इसलिए उन्होंने सड़कों पर 800 शेर और बाघ को छोड़ दिए हैं। बता दें कि रूस में कोरोना वायरस के 300 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। जबकि एक की मौत भी हो गई है। देश के कई हिस्से में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है।

बता दें कि रूस में कोरोना वायरस के 300 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। जबकि एक की मौत भी हो गई है। देश के कई हिस्से में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper