रोजाना एक सेब खाए, कैंसर और हार्ट की बीमारी दूर भगाए

नई दिल्ली: सेहत के लिए सेब सबसे अच्छा फल माना जाता है। एक पुरानी कहावत तो आपने सुनी ही होगी, कि एक सेब रोज खाएंगे तो डॉक्टर से दूर रहेंगे। हाल ही में एक शोध में भी पता चला है कि प्रतिदिन एक सेब खाने से दिल की बीमारियों और कैंसर को दूर किया जा सकता है। शोधकर्ताओं ने पाया कि जो लोग अधिक फ्लेवोनोइड्स युक्त खाद्य पदार्थ खाते हैं उनमें घातक बीमारियां होने की संभावना कम होती है।

शोधकर्ताओं ने कहा कि एक सेब, संतरा, ब्रोकली का हिस्सा और मुट्ठीभर ब्लूबेरी खाने से एक व्यक्ति को कुल 500 मिलीग्राम फ्लेवोनोइड्स प्राप्त होता है।यह सूजन को कम करने में मददगार होता है। नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट के मुताबिक, सूजन रहने के कारण डीएनए को नुकसान पहुंचता है। फ्लेवोनोइड्स प्राकृतिक पदार्थों का एक समूह है जो फल, सब्जियों व अनाजों में पाया जाता है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सेब खाने से दांत भी काफी मजबूत होते हैं। इसके अलावा इसमें प्रचुर मात्रा में डाइट्री फाइबर्स पाए जाते हैं। ये डाइट्री फाइबर्स खाने को बेहतर ढंग से पचाने में मदद करते हैं और खाना जल्दी पचता है। सेब खाने से पेट की समस्याएं जैसे कि कब्ज में भी राहत मिलती है।

डायटिंग करने वाले लोग भी सेब का सवाल करते हैं ताकि इससे वेट कण्ट्रोल में रहे।अध्ययन की प्रमुख लेखक डॉ निकोला बोनडोननो ने कहा, ये निष्कर्ष महत्वपूर्ण हैं क्योंकि ये फ्लेवोनॉइड युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन को बढ़ावा देकर कैंसर और हृदय रोग को रोकने की क्षमता के बारे में समझाते हैं। इसमें उन्होंने पाया कि 500 मिलीग्राम एंटीऑक्सिडेंट यानी फ्लेवोनोइड्स का सेवन करने वाले लोगों में कैंसर और हृदय संबंधी बीमारियों से मौत का खतरा एक दिन कम हो गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper