रोज एटीएम आता और 100 रूपये निकालकर जाता था फौजी, एक दिन गार्ड ने पूछी वजह तो मिला भावुक जवाब

लखनऊ: हमारी भारतीय फ़ौज और फौजी भाइयो के परिवार के लोग अपने आप में बहुत ही ज्यादा महान होते है जिस तरह से वो अपनी जान दांव पर लगाकर के देश की रक्षा करते है उसका कोई मुकाबला ही नही है और कही न कही ये सम्मान योग्य है. सबसे ज्यादा अगर फौजी किसी जगह पर टेंशन में रहते है तो वो जगह है कश्मीर. कश्मीर में आये दिन आतंकी कुछ न कुछ करते रहते है और लोकल लोगो पर भी उनसे मिले होने के इल्जाम लगे होते है.

ऐसे में फौजियों पर भी जान का खतरा रहता है. अब हर वक्त तो कश्मीर में नेटवर्क और इन्टरनेट भी नही रहता है जिससे कि वो अपने घर पर इत्तिला कर पाए. ऐसे में एक फौजी भाई था जो रोजाना अपने नजदीक के एक एटीएम पर जाता था और वहाँ पर जाकर के हर रोज एक 100 रूपये निकालता और वापिस आ जाता.

इस तरह से वो रोजाना आता और ऐसा ही करता था. इस पर वहाँ पर तैनात हुए गार्ड को ये बात थोड़ी सी अजीब लगी कि आखिर वो ऐसा क्यों करता है? गार्ड ने फौजी से कहा कि आप सारा पैसा जो भी चाहिए होता है वो एक बार में क्यों नही निकाल लेते है? आपका रोज रोज का चक्कर नही पड़ेगा. इस पर फौजी ने जवाब देते हुए कहा ये काम में पैसे निकालने के लिए नही करता हूँ.

दरअसल मैं जब भी इस एटीएम से पैसे निकालता हूँ तो मेरी बीवी के मोबाइल पर बैंक के खाते से पैसे निकलने का मेसेज जाता है. मैं हर रोज आकर के पैसे निकालता हूँ तो मेरी पत्नी के पास में मेसेज चला जाता है कि मेने पैसे निकाले है और इससे उसे लगता है कि हां मैं सुरक्षित हूँ. जब तक फोन और नेट चालू नही हो जाते तब तक उसे बताते रहने का यही तरीका है.

सोशल मीडिया से साभार

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper