रोज सुबह एक कली लहसुन खाने के ये फायदे आप नहीं जानते होंगे !

लखनऊ: आयुर्वेद में कहा गया है कि यदि आप रोज एक लहसुन की कली खातें हैं तो आपको कोई भी बीमारी आपको छू भी नहीं सकती। लहसुन के अंदर रोग प्रतिरोग की क्षमता होती है और यह एक एंटीबायोटिक की तरह से काम करता है, तो यह एक छोटी सी चीज लेकिन जब आप इसका इस्तेमाल खाने में करेंगे तो आप खुद जान जायेंगे, सुबह-सुबह रोज खाने एक कली लहसुन खाने से किन किन बीमारियों में फायदा होता है।

लहसुन

भूख बढ़ाये– बहुत से लोगों को भूख नहीं लगती है। अगर वह लोग इसका सेवन खाली पेट करें तो उनको भूख लगना शुरू हो जायेगी।

पेट का साफ न होना– अगर आपको लगता है कि आपका पेट रोज सही तरीके से साफ नहीं होता है तो इसका सेवन करना शुरू कर दीजिए। इसे खाने से आपको कब्ज की शिकायत नहीं रहेगी और आपका पेट भी बिल्कुल साफ रहेगा।

त्वचा बनेगी चमकदार- एक कली लहसुन खाने से आपकी त्वचा में निखार आता है और आपकी त्वचा हमेशा चमकदार और जवान बनी रहेगी।

दर्द मिटाती है– लहसुन में एंटीबॉयोटिक गुण होने की वजह से ये दर्द में आराम पहुंचाती है। अगर इसे खाली पेट खाते हैं तो यह आपके शरीर के दर्द और जोड़ों के दर्द में राहत का काम करती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper