लखनऊ आए सरसंघचालक भागवत, कुछ देर रुककर हरिद्वार रवाना

लखनऊ ब्यूरो। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन राव भागवत शुक्रवार को बिहार की यात्रा के बाद लखनऊ के अमौसी हवाई अड्डे पर विमान से पहुंचे। यहां पर सरसंघचालक कुछ देर रुककर हरिद्वार के लिए रवाना हो गए।

मोहन भागवत ने अमौसी हवाई अड्डे पर बने रेस्ट रुम में कुछ मिनटों तक अपने संगठन आरएसएस के पदाधिकारियों के साथ वार्ता की। इस दौरान अयोध्या में संत सम्मेलन को लेकर भी चर्चा हुई। विहिप की आंदोलन को लेकर सक्रियता में संगठन की भूमिका को मजबूत करने के संदेश को देते और सभी दायित्वधारी प्रचारकों को अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की बात करते हुए वह यहां से हरिद्वार के लिए रवाना हो गए।

अमौसी हवाई अड्डे पर मौजूद किसी भी आरएसएस के पदाधिकारी या प्रचारक ने सरसंघचालक की कही बातों को बाहर निकलने तक गोपनीय बनाए रखा और सभी अपने अपने वाहनों में बैठकर बाहर निकल गए।

इस दौरान विहिप के आंदालेन से जुडे एक पदाधिकारी ने कम शब्दों में कहा कि अयोध्या में संत सम्मेलन पर सरसंघचालक की नजर है और इसी तरह वे देशभर में मंदिर आंदोलन से जुड़ी गतिविधि पर नजर बनाए रखे है।

इसके अलावा उन्होंने आरएसएस की आयामों व गतिविधियों में लगे कार्यकर्ताओं से वार्ता की और उन्हें इशारों इशारों में उसमें गति बढ़ाने को कहा।

बता दें कि संघ के प्रमुख मोहन भागवत पिछले चार दिनों से बिहार के दौरे पर थे और वहां उन्होंने इस दौरान मंदिरों में दर्शन पूजन किया और संतों से मुलाकात भी की।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper