लखनऊ के अस्पतालों में जलभराव से मरीज परेशान

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी में लगातार हो रही बारिश की वजह से कई इलाकों के साथ ही सरकारी अस्पतालों में पानी भर गया है। इस कारण मरीजों को काफी परेशानी हो रही है। लोहिया, बलरामपुर, सिविल, लोकबन्धु जैसे कई अस्पतालों में जगह-जगह जलभराव हो रहा है। अस्पताल के कचरे का निस्तारण सही तरीके से नहीं होने की वजह से ऐसी स्थित उत्पन्न हो रही है। अस्पताल की छतों पर कचरा जमा है, जिस कारण छतों से पानी टपक रहा है।

बलरामपुर में इमरजेंसी वार्ड के सामने और यूरिनल में भी पानी भरा हुआ है। सिविल में बर्न वार्ड के सामने जल भराव बहुत ज्यादा है। लोहिया अस्पताल के मुख्य गेट पर पानी भरा हुआ है। कूड़ा एकत्रित होने के कारण पानी रुक रहा है। इससे मरीजों को परेशानी हो रही है, और वे मलेरिया, डेंगू को लेकर आशंकित हैं।

बाराबंकी से बलरामपुर इलाज कराने आए दिनेश चन्द्र यादव ने बताया, यहां पर बुधवार से ही पानी टपक रहा है और बाहर निकलने पर कूड़ा जमा है। इससे रात में मच्छर बहुत ज्यादा परेशान कर रहे हैं। वार्ड में बहुत सारे लोग डेंगू को लेकर डरे हुए हैं। यहां पर दवा का छिड़काव भी नहीं हो रहा है।

सिविल में इलाज कराने पहुंची महरूनिशा ने कहा, “पानी भरे होने के कारण यहां दवा के पर्चे बनवाने में मुश्किल हो रही है। यहां पर गंदगी और कूड़े की मात्रा ज्यादा होने के कारण संक्रमण का खतरा है। अस्पताल प्रशासन से कहने के बावजूद परेशानी दूर नहीं हो पा रही है।”

मुख्य चिकित्साधिकारी नरेन्द्र अग्रवाल ने बताया, सभी अस्पतालों सीएचसी के अफसरों से कहा गया है कि किसी भी कीमत पर जलभराव की स्थित न उत्पन्न हो। एंटी लार्वा छिड़काव अस्पतालों और मुहल्लों में भी होना है। इसके लिए लोगों को लगाया गया है। कहां लापरवाही हो रही है, इसे जांचा जाएगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper