लखनऊ में जालसाजों ने क्लोन बनाकर तीन के खाते से उड़ाये 1.17 लाख

लखनऊ: राजधानी में साइबर जालसाज लगातार लोगों के खाते में सेंध लगा रहे हैं। जालसाजों ने क्लोन बनाकर कर्नल की पत्नी समेत तीन के खातों से 1.17 लाख रुपये उड़ा लिए। ठगी के यह मामले गाजीपुर व कृष्णानगर थाना क्षेत्र में हुए। पुलिस तीनों मामलों को दर्ज कर साइबर क्राइम सेल की मदद से जांच कर रही है।

इन्दिरानगर के डी-ब्लॉक में कर्नल विकास श्रीवास्तव पत्नी आरती व परिवार के साथ रहते हैं। आरती का बचत खाता एक्सिस बैंक में है। बीते सोमवार की सुबह जालसाजों ने उनके कार्ड का क्लोन बनाकर खाते से 71,986 रुपये पार कर दिये। मैसेज देख आरती के पैरों तले जमीन खिसक गयी। उन्होंने बैंक के कस्टमर केयर पर कॉल कर कार्ड ब्लॉक कराया। उसके बाद उन्होंने गाजीपुर थाने में रिपोर्ट दर्ज करायी।वहीं, कृष्णानगर के मानसनगर निवासी किरन केसरवानी का बचत खाता एसबीआई में है।

बीते 1 मई को साइबर जालसाजों ने कार्ड का क्लोन बनाकर किरन के खाते से दो बार में 20 हजार रुपये गायब कर दिये। पीड़िता किरन ने बैंक में सूचना देकर कार्ड ब्लॉक कराया। उसके बाद मंगलवार को कृष्णानगर कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज करायी।उधर, सवरेदय नगर निवासी राहुल चौधरी वॉयरलेस विभाग में कार्यरत है। उसका बचत खाता एचडीएफसी बैंक महानगर शाखा में है।

बीते 2 मार्च से 29 अप्रैल के बीच जालसाजों ने राहुल के खाते से आठ बार में 25,500 रुपये उड़ा लिए। पीड़ित ने बैंक में शिकायत की तो पता चला कि क्लोन बनाया गया था। बैंक मैनेजर की सलाह पर राहुल ने कार्ड बदल दिया, उसके बाद भी खाते से रुपये निकले। पीड़ित ने गाजीपुर थाने में रिपोर्ट दर्ज करायी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper