लखनऊ में प्रेमजाल में फंसाकर किशोरी संग दुष्कर्म, गिरफ्तार

लखनऊ: पारा इलाके में पहले मनचले ने किशोरी को बहला फुसलाकर नजदीकियां बनाई, उसके बाद बुधवार रात किशोरी को झांसा देकर आधी रात को घर से बुलाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। सुबह जब किशोरी घर पहुंची तो मां की फटकार के बाद उसने सारी दास्तां सुनाई, जिसके बाद परिजनों ने मनचले की शिकायत पुलिस से की। पुलिस ने परिजनों की तहरीर पर मामला दर्ज कर आरोपित युवक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

पारा इंस्पेक्टर त्रिलोकी सिंह ने बताया कि ग्राम अम्बवा थाना बंन्थरा निवासी रंजीत रावत पुत्र सुरेश देवपुर निवासी अपनी मौसी के घर आता जाता था। रंजीत आवारा किस्म का युवक है। कुछ दिन पहले रंजीत हंसखेड़ा पुलिस चौकी क्षेत्र निवासी एक 14 वर्षीय किशोरी को उसने बहला-फुसला कर प्यार के झांसा दिया और साथ ले जाकर घुमाने-फिराने लगा। इस बीच बुधवार देर रात करीब 1.30 बजे रंजीत उसे बहला-फुसलाकर साथ ले गया और किशोरी को घर से अपनी मौसी के घर ले गया, जहां उसने किशोरी के साथ दुष्कर्म किया।

सुबह करीब 5.30 बजे जब बेटी घर पहुंची तो मां ने जमकर फटकार लगायी, जिसके बाद किशोरी ने घटना की पूरी जानकारी मां को दी। घटना की जानकारी मिलते ही किशोरी के पिता ने सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने पिता की तहरीर पर मामला दर्ज कर किशोरी को चिकित्सीय परीक्षण के लिए भेज दिया और आरोपित रंजीत को गिरफ्तार करने जेल भेजा दिया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper