लखनऊ में बीडीएस छात्रा की गला घोंटकर हत्या

लखनऊ: कैंट के निलमथा में रहने वाली बीडीएस छात्रा प्रिया सिंह की कातिलों ने गला घोंटकर हत्या कर दी। वारदात के दौरान परिवारवाले वैवाहिक समारोह में बिहार गये हुए थे और वह अकेली थी। मंगलवार सुबह कॉल रिसीव न करने व आवाज देने पर कोई प्रतिक्रिया न मिलने पर पास में रहने वाले फूफा व पड़ोसी महिला मेन गेट और मुख्य द्वार पर बाहर से लगी कुण्डी खोलकर अंदर गये तो बेड पर शव मिला। प्रिया के गर्दन पर कसाव व हाथ पर चोटों के निशान मिले। कातिलों ने हत्या का आत्महत्या बनाने के लिए पंखे में गमछे का फंदा भी बांधा लेकिन शव लटका नहीं सके। पड़ताल के दौरान पुलिस को कमरे में पांच मोबाइल व तीन पानी की बोतलें मिली हैं। फोरेंसिक टीम ने फिंगर प्रिंट नमूने हासिल करने के बाद सारे सामान को कब्जे में ले लिया है। पुलिस कॉल डिटेल के सहारे पड़ताल कर रही है।मूल रूप से बिहार के जलालपुर निवासी प्रकाश सिंह सिविल इंजीनियर हैं।

वे परिवार के साथ कैंट के निलमथा स्थित विजयनगर विद्यानगर में रहते हैं। उनकी बेटी प्रिया सिंह (24) चिनहट स्थित बीबीडी से बीडीएस अंतिम वर्ष की छात्रा थी। रिश्तेदारों ने बताया कि बीते शनिवार को प्रकाश, पत्नी रेनू व मां के साथ एक वैवाहिक समारोह में शामिल होने बिहार गये थे। परीक्षा के चलते प्रिया शादी में नहीं गयी थी और घर पर अकेली थी। सोमवार को प्रिया पेपर देने गयी। शाम को वापस लौटी और फिर बाहर नहीं निकली।इंस्पेक्टर कैंट रंजना सचान ने बताया कि घर से कुछ दूरी पर प्रिया के फूफा रिटार्यड सैन्यकर्मी संजय कुमार परिवार के साथ रहते हैं। मंगलवार सुबह उन्होंने प्रिया को कई बार कॉल की लेकिन फोन रिसीव नहीं हुआ। वहीं, प्रिया के पड़ोस में देव कुमारी नाम की महिला रहती है। देव कुमारी रोजाना उसके यहां से ठण्डा पानी लेती है। लिहाजा मंगलवार सुबह करीब सात बजे वह प्रिया के घर पानी लेने गयी लेकिन गेट पर बाहर से कुण्डी लगी थी।

उसने प्रिया को कई बार आवाज दी लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। इसी बीच फूफा संजय भी कॉल रिसीव न होने पर वहां आ गये। देव कुमारी ने संजय को बताया कि प्रिया को काफी देर से आवाज दे रही हैं लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल रही है। गेट को खोलकर संजय अंदर गये तो मुख्य दरवाजे पर भी कुण्डी थी। वे उसे भी खोलकर सीधे अंदर प्रिया के बेडरूम में आवाज देते हुए गये।बेडरूम का दृश्य देख वह चौंक गये। बेड पर प्रिया का शव पड़ा था। पंखे पर गमछे का फंदा बंधा था। संजय ने प्रकाश को कॉल किया और फिर कंट्रोल रूम पर सूचना दी। जानकारी मिलते ही एएसपी सव्रेश मिश्रा, सीओ कैंट तनु उपाध्याय व इंस्पेक्टर रंजना सचान मौके पर पहुंची। पुलिस ने फोरेंसिक टीम को मौके पर बुलाया। छानबीन की तो प्रिया के हाथ व गले पर चोटों के निशान मिले। शुरुआती जांच के बाद पुलिस का मानना है कि कातिलों ने शव को फंदे पर टांगकर खुदकुशी साबित करने का प्रयास किया।

अपने मंसूबों में सफल न होने पर कातिल फंदा लगा छोड़कर भाग निकले। जांच पड़ताल के दौरान पुलिस को प्रिया के बेडरूम में पांच मोबाइल मिले हैं। सीओ कैंट तनु उपाध्याय ने बताया कि प्रिया के परिजनों से बात की गयी तो पता चला कि बेटी के पास सिर्फ दो मोबाइल थे। इससे यह साफ हो गया कि तीन मोबाइल कातिलों के हैं। सीओ का कहना है कि एक मोबाइल क्षतिग्रस्त है। इससे यह साफ है कि मोबाइल में कोई वीडियो, फोटो समेत अन्य डिटेल होगी। इसीलिए कातिलों ने मोबाइल को नष्ट कर सभी सुराग को खत्म करने का प्रयास किया। पुलिस मोबाइल डाटा रिकवर करने का प्रयास कर रही है। एएसपी सव्रेश कुमार मिश्रा ने बताया कि कमरे में मेज पर तीन पानी की बोतल मिली है। फोरेंसिक टीम ने बोतलों से नमूने हासिल करने के साथ ही कब्जे में ले लिया है। उनका कहना है कि परिवारवालों के आने के बाद और स्थिति साफ होगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper