लखनऊ में लगाया गया पोस्टर- कृपया मिलने न आएं

लखनऊ। पूरे देश में लॉकडाउन लगा है। कोरोना वायरस से बचने के लिए लोग अपने घरों में कैद है। हालांकि कुछ लोग लॉकडाउन के बावजूद अपने घरों से निकल कर इसकी धज्जियां उड़ा रहे हैं। दूसरी ओर सरकार ऐसे लोगों पर लगाम लगाने के लिए अब सख्ती भी की जा रही है। हाल में यूपी के कई शहरों में लॉकडाउन का खुलेआम मजाक भी बनाया गया था लेकिन इसके बाद ऐसे लोगों पर एफआईआर भी दर्ज की गई। उधर कुछ लोग ऐसे भी जो लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं और लोगों से कह रहे है कि लॉकडाउन के दौरान उनसे दूर ही रहें।

दरअसल लखनऊ के हजरतगंज में एक घर के बाहर लॉकडाउन को लेकर खास संदेश दिया गया है और अपने घर के दरवाजे पर एक नोटिस लगायी है और उस नोटिस में लिखा है कि रिश्तेदार, दोस्त, यार कृपया हमारे घर मिलने न आएं। यदि आएं तो पढक़र वापस चले जाएं। खुद भी वायरस से बचें और हमें भी बचाए। धन्यवाद, जिम्मेदार देशवासी।

ऐसा ही नोटिस फतेपुर में भी देखने को मिला है। लखनऊ को देखकर यूपी के अन्य शहरों में भी इसी तरह नोटिस लगाने की लोगों से अपील की जा रही है। फतेहपुर में कलेक्टर गंज इलाके से लेकर मुस्लिम बहुल इलाकों में दरवाजे के बाहर भी कुछ इसी तरह का नोटिस लगा देखा जा सकता है। लखनऊ में लोगों का कहना लॉकडाउन का हर कोई पालन करे। बता दें कि पूरे देश में कोरोना वायरस लगातार अपनी जड़े मजबूत कर रहा है। बात अगर उत्तर प्रदेश की जाये तो कोरोना वायरस के चलते दो लोगों की मौत हो गई है। इतना ही नहीं पूरे प्रदेश में 118 लोगों के कोरोना वायरस की चपेट होने की बात कही जा रही है।

कोरोना की चपेट में यूपी के नोएडा में सबसे ज्यादा मरीज है। जानकारी के मुताबिक 118 लोगों में से 48 लोग नोएडा के बताया जा रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper