लखनऊ विवि: बेतहाशा शुल्क वृद्धि को लेकर अभाविप का विरोध प्रदर्शन सोमवार को

लखनऊ ब्यूरो। लखनऊ विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों से 60 प्रतिशत से लेकर 120 प्रतिशत तक अधिक शुल्क लेने परअखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने कड़ा रुख अख्तियार किया है। संगठन ने इसका पुरजोर विरोध करने का फैसला लिया है। परिषद के प्रांत संगठन मंत्री सत्यभान सिंह भदौरिया ने शनिवार को कहा कि इसके विरोध में सोमवार को परिषद कार्यकर्ता कुलपति कार्यालय पर प्रदर्शन करेंगे।

प्रांत संगठन मंत्री ने कहा कि गरीब विद्यार्थियों को इससे परेशानी का सामना करना पड़ेगा। बी.कॉम के विद्यार्थी इसके पूर्व एक वर्ष का कुल शुल्क लगभग 25 हजार देते थे, वहीं सेमेस्टर आधारित पाठ्यक्रम करके विवि प्रशासन ने प्रति वर्ष 56 हजार वसूलने का फरमान जारी किया है। उन्होंने कहा कि विवि प्रशासन के इस रवैये से गरीब विद्यार्थियों का विवि में उच्च शिक्षा ग्रहण करना एक स्वप्न हो जायेगा।

सत्यभान ने कहा कि विवि प्रशासन ने नियमित पाठ्यक्रम के तहत चलाये जाने वाले स्नातक के लिये भी शुल्क में 60 प्रतिशत से लेकर 120 प्रतिशत तक वृद्धि की है। ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले विद्यार्थियों को शिक्षा से वंचित किया जा रहा है। अभाविप शिक्षा के क्षेत्र में किसी भी प्रकार की अनैतिकता का समर्थन नहीं करेगी। विवि प्रशासन को शुल्क वृद्धि के फरमान को वापस लेना होगा, वरना परिषद निर्णायक आंदोलन करेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper