लविवि व महाविद्यालयों में अभाविप ने कुलपति का पुतला फूंका

लखनऊ ब्यूरो। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (अभाविप) ने लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति एसपी सिंह पर तानाशाही व भ्रष्टाचारी का आरोप लगाते हुए मंगलवार को लविवि परिसर समेत राजधानी के आठ महाविद्यालयों में कुलपति का पुतला फूंका। परिषद ने राज्यपाल व योगी सरकार से विवि के कुलपति समेत सुरक्षा अधिकारी के बर्खास्तगी की मांग की है।

प्रदेश मंत्री राहुल वाल्मिकी ने कहा कि विद्यार्थी परिषद ने आर-पार की लड़ाई का विगुल फूंक दिया है। छात्र-छात्राएं कुलपति की कार्य प्रणाली से नाराज हैं। उन्होंने कहा सेमेस्टर प्रणाली छात्रहित में नहीं है। विवि के कुलपति सेमेस्टर प्रणाली लागू करके धन उगाही करने पर आमदा हैं। प्रदेश मंत्री ने कहा कि कुलपति छात्रों के साथ संवाद ही नहीं करते। छात्रों के साथ संवाद किये बिना परिसर का महौल अच्छा नहीं होगा। छात्रों के समस्याओं पर कोई सुनवायी नहीं हो रही। कुलपति तानाशाही रवैया अपनाते हुए केवल फरमान जारी कर देते हैं।

संगठन मंत्री अभिलाष ने कहा कि विवि परिसर का माहौल कफ्र्यू जैसा बन गया है। छात्र अपनी बात रखने की कोशिश करते हैं तो बिना किसी साक्ष्य व गलती के कुलपति छात्रों पर मुकदमा कराकर प्रताड़ित कर रहे हैं। छात्रावासों की स्थिति बदहाल है। भोजन में कीड़ा परोसा जा रहा है। अभिलाष ने बताया कि लखनऊ विश्वविद्यालय, डीएवी पीजी कालेज, केकेसी कालेज, विद्यांत हिन्दू पीजी कालेज, कालीचरण पीजी कालेज, स्वामी विवेकानन्द लॉ कालेज, रजत डिग्री कालेज समेत आठ परिसरों में कुलपति का पुतला फूंका गया। उन्होंने कहा कि जब तक कुलपति बर्खास्त नहीं होंगे, परिषद आंदोलन जारी रखेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper