लाइफ स्टाइल हैरान किए इस रिसर्च के नतीजे, कोरोना वायरस को मौत देगी ये हिंदुस्तानी चाय !

नई दिल्ली: हिमाचल प्रदेश के Institute of Himalayan Bio resource Technology(IHBT) ने दावा किया है कि Tea chemical एंटी-एचआईवी(AIIDS) दवाओं की तुलना में immunity को ज्यादा बढ़ावा दे सकता है और कोरोनावायरस से ज्यादा अच्छे से लड़ सकता है।

एक रिसर्च के दौरान polyphenols (bioactive chemicals) पर ज्यादा ध्यान केंद्रित किया गया था। इसमें पाया गया कि polyphenols से कोविड-19 के लिए बाजार में उपलब्ध Anti HIV दवाओं की तुलना में ज्यादा अच्छे नतीजे मिल सकते है।

ये रसायन वायरल प्रोटीन की गतिविधि को रोक कर रख सकते हैं जो वायरस को मानव कोशिकाओं के अंदर पनपने में मदद करता है। कोविड -19 का इलाज करने के लिए कई देशों में Anti HIV दवाओं Lopinavir और Ritonavir का उपयोग किया जा रहा है।

कांगड़ा चाय पर रिसर्च करते हुए भी यह बात सामने आयी थी जब भारतीय और जापानी वैज्ञानिकों ने दावा किया कि आयुर्वेद में अश्वगंधा – एक लोकप्रिय जड़ी बूटी है जो एक कोविद -19 के लिए अच्छी दवा साबित हो सकती है।

कांगड़ा चाय हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में उगाई जाती है।यह अपने अनूठे रंग और स्वाद के लिए जानी जाती है।कांगड़ा चाय को भौगोलिक संकेत (जीआई) टैग मिला है।

यह anti oxidant जैसे catechins और polyphenols से भरा हुआ है, और इससे स्वास्थ को भी भी बहुत से लाभ होते है जैसे ये वजन घटाने को बढ़ावा देता है, प्रतिरक्षा बनाता है, मौखिक स्वास्थ्य और मानसिक सतर्कता में सुधार करता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper