लालजी टण्डन के निधन पर डॉ. अम्मार रिजवी ने जताया दुःख

लखनऊ: ऑल इण्डिया माइनारिटीज़ फोरम फाॅर डेमोक्रेसी के अध्यक्ष अम्मार रिज़वी ने अपने एक वक्तव्य में उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री, लखनऊ के पूर्व लोक सभा सदस्य, बिहार व मध्य प्रदेश के पूर्व राज्यपाल और बीजेपी के प्रमुख नेता लालजी टण्डन के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि लालजी टण्डन जी उन चुने हुये लोगों में से थे जिन्होंने सच्चे राजनैतिक मूल्यों और सिद्वान्तों का सदैव पालन किया। बीजेपी के साधारण कार्यकर्ता से तरक्की करके वह राजनीति के उच्चतम शिखर पर पहुॅंचे। वह लोगों में काफी लोकप्रिय थे। बीजेपी के ही नहीं बल्कि हर पार्टी के लोग उनकी बहुत इज़्ज़त करते थे।

डाॅ. रिज़वी ने कहा कि लखनऊ के विकास में टण्डन जी के योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता। यहां की षिक्षण संस्थाओं, अस्पतालों, सड़के, पुल, पार्के, सफाई और हर व्यवस्था पर लालजी टण्डन जी की छाप दिखायी देती है। मंत्री और लोक सभा के सदस्य की हैसियत से हर समय उनको लखनऊ और उत्तर प्रदेश की फिक्र रहती थी। राज्यपाल का पदभार संभालने के बाद भी लखनऊ से उनका प्रेम कम नहीं हुआ। चाहे पटना में रहे या भोपाल में लेकिन जब भी मौका मिलता वह लखनऊ की तरफ रवाना हो जाते।

डाॅ. रिज़वी ने कहा कि लालजी टण्डन जी के निधन से एक बहुत बड़ी कमी पैदा हो गई है जिसको पूरा करना बेहद मुश्किल है।
किसी शायर ने क्या ख़ूब कहा है कि –
एक लुत्फ़-ए-ख़ास, दिल को तेरी आरज़ू में है,
अल्लाह जाने कितनी कषिष, लखनऊ में है।।

डॉक्टर रिज़वी ने लालजी टण्डन के पुत्र आशुतोष टण्डन, उनके परिवार और घर वालों के प्रति हार्दिक संवदेनाएं व्यक्त करते हुए ईश्वर से प्रार्थना की कि वह दिवंगत आत्मा को शान्ति प्रदान करे और शोक संतप्त परिवार को इस असीम दुख को सहने की ताक़त दे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper