लाल किले पर फिर मिली आतंकी हमले की सूचना, पतंग-ड्रोन उड़ाने पर लगा प्रतिबंध

नई दिल्ली: 15 अगस्त यानी स्वतंत्रता दिवस के मौके पर और उसके बाद दिल्ली में आतंकी हमले होने के इनपुस्ट एक बार फिर प्राप्त हुए हैं। दिल्ली पुलिस को दिए गए इनपुट्स में खुफिया विभाग ने कहा है कि आतंकी जम्मू कश्मीर से 370 हटने की वजह से बौखलाए हुए हैं। विभाग ने कहा है कि आतंकी दिल्ली पर कभी भी हमला कर सकते हैं। इस हमले में किसी भी वाहन का इस्तेमाल हो सकता है।

सूचना मिलने के बाद विभाग ने सुरक्षा बढ़ा दी है। वहीं, लालकिले पर भी सुरक्षा के स्तर को बढ़ा दिया गया है। आतंकी हमले की संभावना को देखते हुए लालकिले के चप्पे-चप्पे पर सीसीटीवी कैमरा लगाए गए हैं। इस के अलावा पतंग और ड्रोन उड़ाने पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। खुफिया विभाग से मिले इनपुट्स के बाद सभी थाने और सभी क्षेत्रों के पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है। दिल्ली के सभी क्षेत्र में सुरक्षा बढ़ा दिया गया है, जगह-जगह वाहनों की चेकिंग की जा रही है।

उत्तरी जिले की डीसीपी नुपुर प्रसाद ने इस बारे में मीडिया को बताया कि “15 अगस्त को देखते हुए लालकिले की सुरक्षा को पुख्ता किया गया है। लालकिले की सुरक्षा के लिए मचान बनाए गए हैं। बहुत सारे चेक पाइंट बनाए गए हैं। स्थानीय पुलिस के अलावा सुरक्षा यूनिट, एनएसजी, एसपीजी व सेना के जवान तैनात रहेंगे। लालकिले की निगरानी के लिए चप्पे-चप्पे पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। लालकिले के आस-पास करीब 800 कैमरे लगाए गए हैं।

डीसीपी ने कहा, लालकिले के पास और दिल्ली के क्षेत्र में ड्रोन के उड़ानों पर रोक लगा दी गई है. इसके साथ-साथ पतंग उड़ाने पर भी रोक लगी रहेगी। लालकिले के कार्यक्रम के दौरान सुबह 7:30 बजे से लेकर 8:30 बजे तक पतंग उड़ाने पर रोक रहेगी। लालकिले की सुरक्षा में 10 कंपनियां तैनात की गई हैं।

अफवाहें फैलाने वालों पर गृह मंत्रालय का शिकंजा, 8 टि्वटर अकाऊंट्स बंद करने की सिफारिश

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper