ले. जनरल अनुप बनर्जी ने संभाला सेना चिकित्सा कोर केन्द्र एवं काॅलेज के सेनानायक का कार्यभार

लखनऊ: लेफ्टिनेंट जनरल अनुप बनर्जी ने 4 फरवरी 2018 को राजधानी लखनऊ छावनी स्थित सेना चिकित्सा कोर केन्द्र एवं काॅलेज के सेनानायक एवं एएमसी अभिलेख प्रमुख का कार्यभार संभाल लिया है। वर्तमान पद ग्रहण करने से पूर्व, ले. जनरल बनर्जी मुम्बई, गोवा एवं गुजरात एरिया, मुम्बई में मेजर जनरल ;चिकित्साद्ध के पद पर कार्यरत थे।

पदभार ग्रहण करने के पश्चात ले. जनरल अनुप बनर्जी ने सेना चिकित्सा कोर के ‘युद्ध स्मारक’ पर पुष्प चक्र अर्पित कर उन जाबांज शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि दी जिन्होंने राष्ट्र सेवा में अपना सर्वोच्च बलिदान दिया। इसके बाद जनरल बनर्जी ने सेना चिकित्सा कोर के सैन्यधिकारियों, जूनियर कमीषन्ड अधिकारियों, जवानों एवं रंगरूटों को सम्बोधित किया।

आपको बता दें कि 15 सितंबर 1981 को सेना चिकित्सा कोर में कमीशन प्राप्त ले. जनरल अनुप बनर्जी पुणे स्थित आर्मड फोसेज़ मेडिकल काॅलेज के विद्यार्थी रहे हैं। ले. जनरल बनर्जी एक जानेमाने कार्डियोलाॅजिस्ट हैं। 36 वर्षों की सैन्य सेवा के दौरान ले. जनरल अनुप बनर्जी प्रशासनिक, स्टाफ एवं नियुक्तियों सहित विभिन्न महत्वपूर्ण पदों पर रहे हैं। ले. जनरल बनर्जी उत्तरी कमान के कमान अस्पताल तथा दिल्ली स्थित सेना अस्पताल रिसर्च एवं रेफरलद्ध के उप सेनानायक तथा कमान अस्पताल कोलकाता में मेडिसिन एवं कार्डियोलाॅजी के कन्सल्टेन्ट जैसे महत्वपूर्ण पदों पर रह चुके हैं ।

ले. जनरल अनुप बनर्जी को वर्ष 1985 में भारतीय सेना के पर्वत शिखर एवरेस्ट अभियान दल के एक मात्र मेडिकल सदस्य की भूमिका के लिए इन्हें 26 जनवरी 1986 को ‘सेना पदक’ से सम्मानित किया गया । ले. जनरल बनर्जी को उनकी उत्कृश्ट सेवाओं के लिए वर्ष 2001, 2003 एवं 2013 में थल सेनाध्यक्ष का ‘प्रषंसा पत्र’ से सम्मानित किया जा चुका है। इसके अतिरिक्त उन्हें वर्श 2007 में जनरल आफीसर कमांडिंग-इन-चीफ के प्रषंसा पत्र से भी सम्मानित किया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper