लॉकडाउन के कारण इन क्रिकेटरों को टालनी पड़ी शादी

नागपुर: कोरोना वायरस महामारी के कारण खेल मुकाबले ही स्थगित नहीं हुए हैं बल्कि कई क्रिकेटरों के शादी के सपने भी टूट गये है। कोरोना संक्रमण बढ़ने के कारण लगे लॉकडाउन के कारण कई क्रिकेटरों को अपनी शादी भी टालनी पड़ी है। लॉकडाउन के कारण विदर्भ के ऑलराउंडर आदित्य सरवटे, विकेटकीपर बल्लेबाज अक्षय वाडकर और तेज गेंदबाज रजनीश गुरबानी को शादी स्थगित करनी पड़ी है।

आदित्य सरवटे को अपनी मंगेतर अरुणिता के साथ 27 अप्रैल को शादी के बंधन में बंधना था, जबकि वाडकर और गुरबानी की शादियां 2 और 18 मई को होनी थीं। आदित्य की मंगेतर अरुणिता ने कहा, ‘पिछले साल जामथा स्टेडियम में जब विदर्भ की टीम ने अपना दूसरा रणजी खिताब जीता था, तो मैंने भी आदित्य के साथ उसी खिताबी जीत का जश्न मनाया था। तभी से हमने अपनी शादी की तैयारियां शुरू कर दी थीं। रणजी ट्रॉफी के उस खिताबी मुकाबले (2018-19) में आदित्य ने सौराष्ट्र के खिलाफ 11 विकेट और 49 रन की अहम पारी खेली थी। उन्हें मैन ऑफ द मैच का खिताब मिला था।’

अरुणिता ने कहा, ‘हमने यही सोचा था कि हम अपनी शादी का समारोह साधारण रखेंगे। हमने अपने हनीमून को यादगार बनाने की तैयारियां की थीं लेकिन अब इस सबके लिए और इंतजार करना पड़ेगा। इससे थोड़ा दुख तो होता है पर सच्चाई को स्वीकार करना ही चाहिए। चीजें खत्म नहीं हुई हैं। यह भविष्य में सुधरेंगी, तब हम फिर से योजना बनाएंगे। मैं सबकी सुरक्षा की कामना करती हूं।’ वहीं अक्षय वाडकर की होने वाली पत्नी श्रुतिका अपनी शादी के हर रस्म-रिवाज को बड़े समारोह की तरह मनाना चाहती थीं।

श्रुतिका ने बताया, ‘मैं अपनी शादी का हर क्षण कैप्चर करना चाहती थी पर अक्षय को इसमें ज्यादा रुचि नहीं थी। अब उम्मीद है कि निकट भविष्य में हम फिर से अपनी योजनाओं को साकार कर पाएंगे।’ वहीं इसी तरह विदर्भ की टीम के तीसरे खिलाड़ी रजनीश गुरबानी हैं, जिन्हें थोड़े ही दिनों बाद शादी के बंधन में बंधना था। रजनीश के पिता नरेश गुरबानी ने कहा कि उनका शहर नागपुर कोविड-19 के रेड जोन में है। इसलिए शादी की तारीख आगे बढ़ाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper