लॉकडाउन को लेकर कांग्रेस का दाेहरा मापदंड: प्रकाश जावडेकर

नई दिल्ली: केन्द्रीय सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कोरोना और लॉकडाउन जैसे मसलों पर कांग्रेस पर दाेगलेपन की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि देश में जब लॉकडाउन लगा था तब उसे दिक्कत थी और अब लॉकडाउन में ढील दी जा रही है तो भी उसे परेशानी है ,जो उसके दोहरे मापदंड़ को दर्शाता है।

जावडेकर ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के बयान पर प्रतिक्रिया करते हुए मंगलवार को कहा कि जिस समय देश में लॉकडाउन शुरू हुआ था उस वक्त कोरोना के मामलाें के दुगना होने की दर तीन दिन थी और इस समय कोरोना के दुगना होने की दर 13 दिन है और इसमें काफी सुधार हुआ है।

जावडेकर ने कहा “विश्व के अनेेेक देशों ने भारत के समय रहते लिए गए इस फैसले की तारीफ की है। यह भारत की सफलता है और सबकी सफलता है। मुझे आश्चर्य होता है कि उस समय कांग्रेस ने हायतौबा मचाई थी और यह कहा था कि इससे देश की अर्थव्यवस्था तबाह हो जाएगी ,अब जब लॉकडाउन हटा रहे है तो भी वे शोर मचा रहे हैं और इसका भी विरोध करेंगे।

यह कांग्रेस का नीति दोगलापन है और पाखंड है।” उन्होंने कहा कि देश इस समय एक आपदा से लड़ रहा है लेकिन कांग्रेस पार्टी गलत बयान बाजी कर रही है । कांग्रेस इस समय भी राजनीति करने से बाज नहीं आ रही है और श्री गांधी ने प्रेस कांफ्रेंस मेें जो बयान दिया है वह भी गलत था।

एक तरफ कोरोना की मार दूसरी तरफ आग बरसा रहा सूरज

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper