लॉकडाउन में जुड़वां बच्चों ने लिया जन्म, माता-पिता उनका नाम रखा कोरोना और कोविद

रायपुर: एक ओर जहां पूरा विश्व कोरोना वायरस से लड़ रहा है वहीं छत्तीसगढ़ के एक दंपती ने अपने नवजात बच्चों का नाम ‘कोरोना’ और ‘कोविड’ रखा है. छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के डॉक्टर भीमराव अंबेडकर अस्पताल में 26-27 मार्च की रात में देशव्यापी लॉकडाउन के बीच प्रीति वर्मा (27) ने जुड़वां बच्चों को जन्म दिया. विपरीत परिस्थितियों का सामना कर अस्पताल तक पहुंचे दंपती ने अपने बच्चों का नाम कोरोना वायरस के नाम पर कोरोना और कोविड रख दिया है.

माता-पिता का कहना है कि बच्चों का नाम उनकी परेशानियों पर जीत और अस्पताल के सहयोग, दोनों को याद दिलाते रहेंगे. हालांकि, दंपती ने यह भी कहा कि वे बाद में बच्चों के नाम बदल सकते हैं. बच्चों की मां प्रीति ने बताया कि उन्होंने जुड़वां बच्चों, एक लड़का और एक लड़की को जन्म दिया. उन्होंने बताया कि अब हम उन्हें कोविड और कोरोना कह रहे हैं. प्रीति ने कहा कि बच्चों का जन्म कई कठिनाइयों का सामना करने के बाद हुआ है. उन्होंने कहा, ‘‘हम इस दिन को यादगार बनाना चाहते थे, इसलिए हमने बालिका को कोरोना और बालक को कोविद नाम देने का फैसला किया.

यहां तक कि अस्पताल के कर्मचारियों ने भी डिलीवरी के बाद उत्साह में उन्हें इसी नाम से बुलाना शुरू कर दिया था.’’ दंपती मूल रूप से उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं तथा रायपुर के पुरानी बस्ती इलाके में किराए के मकान में रहते हैं. अस्पताल की जनसंपर्क अधिकारी शुभ्रा सिंह ने बताया कि मां और दोनों नवजात शिशुओं को बीते मंगलवार को छुट्टी दे दी गई थी तथा वे पूरी तरह स्वस्थ हैं. सिंह ने बताया कि अस्पताल पहुंचने से पहले दंपती के लिए कठिन समय था क्योंकि कोई भी मदद करने वाला उनके साथ नहीं था. उनकी दो वर्ष की एक बेटी भी है. उनके रिश्तेदार यहां आने वाले थे लेकिन लॉकडाउन के कारण नहीं आ सके.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper