लॉकडाउन से किसान परेशान, जानिये क्या है कारण

लखनऊ : कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण चल रहे लॉकडाउन ने किसानों की कमर तोड़ दी है। लॉकडाउन के दौरान भले ही शहर में आपको सब्जी महंगी मिल रही हो, मगर गांव में जो किसान इन सब्जियों को उगा रहा है, उसकी हालत काफी खराब है। सब्जी की आपूर्ति का उचित इंतजाम न होने से उसको औने-पौने दाम में अपनी फसल बेचनी पड़ रही है।

केवल लखनऊ ही नहीं, पूरे प्रदेश का यही हाल है। अवध क्षेत्र में सब्जी की फसल के तौर पर इन दिनों खीरा, ककड़ी, कद्दू, लौकी, मिर्च, धनिया, कटहल और चुंकदर आ रहा है। फसल अच्छी हुई है, मगर केवल घरेलू खरीददारी होने की वजह से आपूर्ति कम है। इसकी वजह से किसानों को दाम बहुत कम मिल पा रहे हैं।

किसानों को दो रुपए किलो लौकी, पांच रुपए किलो चुकंदर, 12 रुपए किलो हरी धनिया, तीन रुपए किलो कद्दू और 20 रुपए किलो हरी मिर्च बेचनी पड़ रही है। इस कीमत में मुनाफ़ा तो दूर की बात, लागत निकल पाना भी मुश्किल हो रहा है। किसान बताते हैं कि जो मंडी तक ले जाने का खर्च भी बमुश्किल निकल पा रहा है। इसलिए सब्जी जैसे-तैसे बेच दे रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper