लोगों को गाड़ी पकडऩी भी नहीं आती और फर्जी लाइसेंस से सड़क पर चलाना शुरू कर देते हैं : नितिन गडकरी

मुंबई: सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि नये मोटर वाहन कानून के तहत कोई भी व्यक्ति सड़क पर नियमों का उल्लंघन कर लोगों की जान से नहीं खेल सकेगा और जो नियम तोड़ेगा उसे हर हाल में दंडित किया जाएगा। गडकरी ने सोमवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि नया मोटर वाहन अधिनियम किसी को भी सड़क सुरक्षा के नियम में कोताही बरतने की इजाजत नहीं देता है। मंत्री, नेता, अभिनेता, अधिकारी या कोई भी व्यक्ति जो यातायात नियम तोड़ेगा तो उसे दंडित होना पड़ेगा।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सड़क सुरक्षा उनकी प्राथमिकता है और सड़कों पर लोगों की जान नहीं जाए, इसके लिए न सिर्फ सख्ती से नियमों का पालन किया जाएगा बल्कि रोड इंजीनियंरिंग में सुधार भी लाया जा रहा है। सड़क सुरक्षा की स्थिति में सुधार लाना उनकी सरकार की प्राथमिकता है।

उन्होंने कहा कि देश में 30 प्रतिशत लाइसेंस फर्जी बनते हैं। एक व्यक्ति के पास चार-चार राज्यों में बनाए गये लाइसेंस हैं। लोगों को गाड़ी पकडऩी नहीं आती और ड्राइविंग लाइसेंस हासिल कर लेते हैं। गाड़ी चलाना आता नहीं और सडकों पर वाहन लेकर आ जाते हैं जिससे लोगों की जान खतरे में आ जाती है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अब किसी चालक को लोगों की जान से खेलने नहीं दिया जाएगा। ड्राइविंग लाइसेंस बनाने की नयी व्यवस्था में पूरी प्रक्रिया पारदर्शी है।

कितना ही बड़ा आदमी क्यों न हो उसका लाइसेंस प्रक्रिया के तहत पारदर्शी तरीके से ही बनाया जाएगा। किसी भी व्यक्ति का नया ड्राइविंग लाइसेंस अब तब ही बन पाएगा जब वह वाहन चलाने में पूरी तरह से निपुण हो। उन्होंने कहा कि नया मोटर वाहन कानून बनने से लोगों में कानून के प्रति डर पैदा हुआ है। कानून से लोग डरने लगे हैं और उसके प्रति उनका सम्मान जगा है। कानून तोडऩे वाले दंडित होने से परेशान हैं लेकिन इससे सड़कों पर लोगों की जान बचेगी और सड़क दुर्घटनाओं में कमी आएगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper