लोगों को चरित्र प्रमाण-पत्र देने में सुशील मोदी का जोड़ नहीं : प्रशांत किशोर

पटना: बिहार में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और जनता दल (यूनाइटेड) भले ही मिलकर सरकार चला रहे हैं, लेकिन एक-दूसरे दलों के नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसी कड़ी में शनिवार को चुनावी रणनीतिकार और जद(यू) के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने उपमुख्यमंत्री और भाजपा नेता सुशील मोदी पर निशाना साधा है। प्रशांत किशोर ने सुशील मोदी के एक पुराने वीडियो को ट्विटर पर शेयर करते हुए लिखा है, “लोगों को चरित्र प्रमाण-पत्र देने में सुशील मोदी जी का कोई जोड़ नहीं है। देखिए पहले बोल कर बता रहे थे और अब उपमुख्यमंत्री बना दिए गए तो लिख कर दे रहे हैं। इनकी क्रोनोलॉजी भी बिल्कुल क्लीयर है।”

वीडियो में सुशील मोदी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को विश्वासघाती कहते नजर आ रहे हैं। वीडियो में मोदी कह रहे हैं, नीतीश कुमार इज नॉट बिहार और बिहार इज नॉट नीतीश। उनके डीएनए में विश्वासघात और धोखाधड़ी है। इस दौरान सुशील मोदी कई लोगों का उदाहरण भी दे रहे हैं। इस वीडियो के साथ प्रशांत किशोर ने सुशील मोदी का एक और ट्वीट भी शेयर किया है, जिसमें मोदी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तारीफ कर रहे हैं।

सुशील मोदी के इस ट्वीट में लिखा हुआ है, “नीतीश कुमार जी के साथ यह विडम्बना अक्सर होती है कि अपनी उदारतावश वह जिनको फर्श से उठाकर अर्श पर बैठाते हैं, वही उनके लिए मुसीबत बनने लगते हैं। उन्होंने किसी को अपनी कुर्सी दी, कितनों को राज्यसभा का सदस्य बनवाया, किसी को गैर राजनीतिक गलियों से उठाकर संगठन में ऊंचा ओहदा दे दिया, लेकिन इसमें से कुछ लोगों ने थैंकलेस होने से गुरेज नहीं किया। राजनीति में हमेशा ‘सब जायज’ नहीं होता।” उल्लेखनीय है कि किशोर इन दिनों अपनी पार्टी से भी नाराज चल रहे हैं। कई मौके पर उन्होंने अपनी पार्टी पर भी सवाल उठाए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper