वजन कम करने और फिट रहने के लिए रोजाना पीएं ये खास कॉफी

नई दिल्ली : बदलती लाइफ स्टाइल में वजन कंट्रोल में रखना एक बड़ी चुनौती है, लोग वजन कम करने के लिए जिम में घंटों पसीना बहाते हैं और महंगे सप्ली मेंट लेते हैं। अगर फिर भी आपका वजन कम नहीं हो पा रहा है तो कुछ आसान से उपाय से वजन तेजी से कम कर सकती हैं। रोजाना 1 महीने तक ऐसा करने से आपको फर्क महसूस होगा। बढ़ते वजन से गंभीर बीमारियों का खतरा हो सकता है। ऐसे में वजन कम करने के लिए कुछ एक्सपर्ट्स से कुछ आसान से उपाय जानिये…

एक्सपर्ट्स का कहना है कि ग्रीन कॉफी विटामिन्स और मिनरल्स से भरपूर होती है जो हमारे शरीर में पोषक तत्वों की कमी को पूरा करने में हेल्प करती है और इससे आपका वजन भी कम होता है। ग्रीन कॉफी बीन्स में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स और मिनरल्स होते हैं जो हमारी बॉडी को लगभग हर तरह के इंफेक्शान से बचाकर हेल्दी् रखते है। हाई ब्लकड प्रेशर के लिए यह ब्लहड वेसल्सग को प्रभावित करता है, ताकि ब्लंडप्रेशर को कम किया जाए। इसमें कैफीन की मात्रा न के बराबर होती है। ग्रीन कॉफी बीन्स कॉफी बीन्स हैं, जिनमें केमिकल क्लोरोजेनिक एसिड की अधिक मात्रा होती है। इस केमिकल के बहुत सारे हेल्थस बेनिफिट्स है। जब आप कॉफी बीन्स को रोस्टे करते है तो इसमें यौगिक की मात्रा कम हो जाती है, जिसका हम इस्ते माल करते हैं।

वेट लॉस के लिए ग्रीन कॉफी
ग्रीन कॉफी ग्रीन टी की तरह ही वेट लॉस के लिए जाना जाता है, यह लाइट कलर की कॉफी है जो बिना दूध या चीनी के लिया जाता है और इसका बहुत हल्का स्वाकद आपको कई तरीकों से वजन कम करने में हेल्प करता है। बीन्स को भुना नहीं जाता है, ऐसे में यौगिक शरीर को लाभ पहुंचाने वाले गुणकारी गुणों को बरकरार रखता है। यह बॉडी फैट कम करता है, जिससे वेट लॉस में हेल्पी मिलती है। वजन घटाने के लिए, ग्रीन कॉफी में क्लोरोजेनिक एसिड बॉडी में ब्लतड शुगर और मेटाबॉलिज्मट को हैंडल करता है, जिससे वेट लॉस करने में हेल्प मिलती है। ग्रीन कॉफी 3 तरीके से आपको वेट लॉस में हेल्प् करती है।

बूस्ट करता है मेटाबॉलिज्म 
ग्रीन कॉफी में क्लोरोजेनिक एसिड होता है जो मेटाबॉल्जिम को बढ़ावा देता है, यह हमारी बॉडी के बीएमआर को बढ़ाने में हेल्प् करता है, जो आगे चलकर लिवर से ब्ल ड में ग्लूकोज के निकलने को कम करता है। ग्लूकोज की आवश्यकता को पूरा करने के लिए बॉडी फैट सेल्स में स्टोलर में एक्ट्रा क फैट को जलाना शुरू कर देता है, जिससे वजन तेजी से कम होता है।

शुगर के अवशोषण को कम करें
ग्रीन कॉफी लेने से छोटी आंतों में शुगर का अवशोषण कम हो जाता है, जिससे बॉडी में चीनी फैट के रूप में कम स्टोनर होती है और कैलोरी ज्याटदा बर्न होती है। इससे तेजी से वजन कम होता है।

भूख कम करें
आपको भूख जल्दी जल्दी लगती है तो आपको एक्ट्रा कैलोरी बर्न करने के लिए ग्रीन कॉफी पीनी चाहिए, क्योंकि इसमें मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड भूख को कम करता है।

ग्रीन कॉफी से वेट लॉस
भोजन के आधे घंटे बाद ग्रीन कॉफी लेना अच्छा होता है, क्योंकि खाने के बाद ब्लड शुगर का लेवल बढ़ जाता है। ऐसा कार्बोहाइड्रेट या प्रोटीन लेने से होता है। डाइजेशन के दौरान भोजन टूटता है, तो एक्ट्राूप शुगर बॉडी में फैट के रूप में जमा हो जाती है। ग्रीन कॉफी पीने से ब्लनड शुगर लेवल को बनाए रखने में मदद मिलती है और आपको लंबे समय तक एनर्जी रहती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper