वयस्कों को उदासी दूर करने में मदद सकती है फेसबुक

न्यूयॉर्क: अगर आप फेसबुक जैसी सोशल नेटवर्किंग साइट का उपयोग करते हैं, तो आप अवसाद और चिंता जैसे गंभीर मनोवैज्ञानिक संकट से बचने के लिए 1.63 गुना अधिक सक्षम हैं। एक अध्ययन में यह बात सामने आई है। फेसबुक जैसे सोशल मीडिया ऐप का उपयोग करने के अपने फायदे हैं और एक ऐसा सकारात्मक परिणाम वयस्कों के बीच मानसिक स्वास्थ्य में सुधार कर रहा है।

मिशिगन स्टेट युनिवर्सिटी के एक अध्ययन के अनुसार, सोशल मीडिया और इंटरनेट का उपयोग नियमित रूप से वयस्कों में मानसिक स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है और डिप्रेशन व चिंता जैसे गंभीर मनोवैज्ञानिक संकट को दूर करने में मदद कर सकता है।

मिशिगन स्टेट युनिवर्सिटी में मीडिया और सूचना के प्रोफेसर कीथ हैम्पटन ने कहा, “संचार प्रौद्योगिकी और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म रिश्तों को बनाए रखना और स्वास्थ्य जानकारी तक पहुंचना आसान बनाते हैं।” इस निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए हैम्पटन ने अधिक परिपक्व आबादी का अध्ययन किया, जिसके लिए उसने निर्धारित किया दुनिया का सबसे लंबा चलने वाला घरेलू सर्वेक्षण ‘पैनल स्टडी ऑफ इनकम डायनेमिक्स’।

इसमें 13 हजार से ज्यादा वयस्क प्रतिभागियों पर अध्ययन किया गया। उन्होंने पाया कि सोशल मीडिया यूजर्स में एक वर्ष से दूसरे वर्ष तक गंभीर मनोवैज्ञानिक संकट का सामना करने की संभावना 63 प्रतिशत कम है, जिसमें प्रमुख डिप्रेशन या गंभीर चिंता शामिल है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper