वर्क फ्रॉम होम मे ये गलती पड़ सकती है भारी, हो सकती हैं आपको ये बड़ी प्रॉब्‍लम्‍स

नई दिल्ली: लॉकडाउन में कई लोग घर से काम कर रहे हैं । लेकिन घर में ना तो दफ्तर जैसी आरामदायक कुर्सी है और ना ही सही टेबल, जिससे आप अपने पोश्‍चर का ध्‍यान रख सकें । कई बार तो बिस्‍तर पर बैठे – बैठे ही घंटों लैपटॉप पर गुजर जा रहे हैं । लेकिन आपकी ये स्थिति आपकी पीठ को बहुत जयादा नुकसान पहुंचा सकती है । ऐसा ना हो कि लॉकडाउन के बाद जब आपको ऑफिस जाने को कहा जाए तो आपकी पीठ आपका साथ ही ना दे । इसलिए इन गलतियों से बचें ।

बिस्‍तर पर बैठकर ऐसे करें काम
बिस्तर पर बैठकर काम करने वाले ये जरूर जानने लें कि ऐसे-वैसे बैठकर या लेटकर कीबोर्ड पर उंगलियां चलाना कहीं से भी आरामदायक नहीं है । ऐसा करने से आपकी पीठ की बैंड बज सकती है । अगर बिस्‍तर पर बैठकर काम करना बहुत जरूरी है तो ध्‍यान रखें कि आपकी पीठ एकदम सीधी होनी चाहिए । रिसर्च कहती है कि बिस्तर पर बैठकर काम करने से लोगों की पीठ अकड़ जाती है, जिससे रीढ़ की समस्या होने लगती है ।

इन समस्‍याओं से हो सकता है सामना
सही प्रकार से बैठकर काम ना करने से मांसपेशियों में ऐंठन, पीठ दर्द या पैरों में दर्द जैसी समस्याएं हो सकती हैं । डॉक्‍टर्स का कहना है कि ध्‍यान ना देने पर स्लिप डिस्क की समस्या भी हो सकती है । दरअसल रीढ़ की हड्डियों को सहारा देने वाली छोटी-छोटी गद्देदार डिस्क होती हैं, जो कि आपके रीढ़ की हड्डियों को झटकों से बचाती है । इन्‍हें नुकसान पहुंचने पर स्लिप डिस्क की समस्या हो जाती है ।

बिस्तर पर बैठकर काम करते हुए इन बातों का ध्‍यान रखें
अगर बिस्तर बैठ कर काम करने के अलावा आपके पास दूसरे ऑप्‍शन नहीं हैं तो यह कोशि करें कि आप सीधे बैठें हों । लैपटॉप को ऐसे रखें कि वो आपके सिर के समानांतर आ जाएं, जिससे आपको अपनी गर्दन को झुकाना न पड़े । डॉक्‍टर्स के मुताबिक आपका सिर, गर्दन और रीढ़ एक सीधी रेखा में होना चाहिए, येही आपका राइट पोश्‍चर है । टाइम – टाइम पर अपने पैरों को भी सीधा करते रहें ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper