वाराणसी में श्रृंगार गौरी मंदिर जा रहे 170 शिव सेना के कार्यकर्ता गिरफ्तार

वाराणसी: उत्तर प्रदेश में वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर एवं मां श्रृंगार गौरी के दर्शन-पूजन करने जा रहे शिव सेना के 170 कार्यकर्ताओं को पुलिस ने सोमवार को गिरफ्तार कर लिया और बाद में निजी मुचलके पर छोड दिया।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि बड़ी संख्या में शिव सेना के कार्यकर्ता असि घाट से गंगा जल लेकर मंदिर की ओर जा रहे थे। जल लेकर वे भदैनी इलाके में पहुंचे तभी पुलिस ने उन्हें कानून-व्यवस्था का हवाला देते हुए आगे से बढ़ने से रोक दिया। इस पर वे नहीं माने तो पुलिस ने कनूनी कार्रवाई करनी पड़ी। उन्होंने बताया कि मौके पर मौजूद मजिस्ट्रेट ने निजी मुचलके के आधार पर सभी को छोड़ने का आदेश दिया।

इस बीच शिव सेना कार्यकर्ता अरुण पाठक ने संवाददाताओं को बताया कि गिरफ्तारी की आशंका के मद्देनर उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी पत्र लिखकर अवगत कराया था, लेकिन उनकी ओर से कोई पहल नहीं की गई। इस वजह से कार्यकर्ताओं में निराशा हैं कि उन्हें पौरणिक मान्यताओं के अनुसार पूजा-पाठ करने से पुलिस रोक रही है।

गौरतलब है कि मां श्रृंगार गौरी मंदिर काशी विश्वनाथ मंदिर एवं ज्ञानवापी मस्जिद के साथ स्थित है। शिव सेना के कार्यकर्ता कई वर्षों से सावन माह के अंतिम सोमवार को दोनों मंदिरों में पूजा-अर्चना करने के लिए सामूहिक रुप से पूजा करने जाना चाहते हैं, लेकिन प्रशासन उन्हें कानून व्यवस्था बिगड़ने की आशंका का हवाला देकर मंदिर तक जाने से रोकती रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper