वाहनों के वीआईपी नम्बरों की ऑनलाइन नीलामी शुरू

लखनऊ ब्यूरो। राजधानी लखनऊ में दो और चार पहिया वाहनों के वीआईपी नम्बरों की ऑनलाइन नीलामी (बोली) सोमवार से शुरू हो गई है। यह ई -नीलामी बुधवार तक चलेगी।

एआरटीओ प्रशासन राघवेंद्र सिंह ने बताया कि दो और चार पहिया वाहनों की ऑनलाइन बोली सोमवार से शुरू कर दी गई है। यह ई-नीलामी अब बुधवार तक चलेगी।

उन्होंने बताया कि राजधानी में पहली बार पालयट प्रोजेक्ट के तौर पर वाहनों के वीआईपी नम्बरों की ई -नीलामी की शुरूआत हुई है। गत 24 से 27 जनवरी तक चार दिनों तक नीलामी प्रक्रिया में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए 105 लोगों ने हिस्सा लिया है। सबसे ज्यादा 0001 नम्बरों की चाहत रखने छह लोग कतार में है। ऐसे 71 अलग-अलग वीआईपी नम्बरों की बोली लगाने सौ से ज्यादा लोग मैदान कूद चुके हैं।

एआरटीओ ने बताया कि 30 जनवरी की शाम छह बजे अलग-अलग नम्बरों के लिए अधिकमत बोली लगाने वाले दो व चार पहिया वाहन मालिक के नामों का खुलासा किया जाएगा। इस बार दो व चार पहिया निजी वाहनों की नई सीरीज यूपी 32 केएल से शुरू हुई है। इनमें 346 वीआईपी नम्बरों की ऑनलाइन बुकिंग के बजाए ई- नीलामी प्रक्रिया अपनाई जा रही है। एक बार की नीलामी प्रक्रिया सात दिनों में खत्म होगी।

हर नम्बरों के लिए कम से कम तीन बोली लगाने वाले होने चाहिए। ऐसा नहीं होने की दशा में अगले एक सप्ताह चार दिनों तक पुन: नए रजिस्ट्रेशन होंगे। इसके तीन दिन के भीतर बोली लगवाकर अंतिम परिणाम घोषित किए जाएंगे। जिन नम्बरों के लिए एक ही आवेदक होंगे उन्हें पहले आओ पहले पाओ के आधार पर नम्बर आवंटित कर दिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि वीआईपी नम्बरों की बोली लगाने वालों में सबसे ज्यादा दावेदर 0001 नम्बर के लिए छह लोग कतार में है। इसके अलावा 1111 के लिए तीन, 9999 के लिए पांच, 3232 के लिए चार, 5151 के लिए चार, 0009 के लिए चार, 7171 के लिए तीन व 2323 के लिए तीन लोग बोली लगाने मैदान में हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper