विधायक हेमंत कटारे को ब्लैकमेल कर 5 लाख रुपए लेने वाली छात्रा को मिली जमानत

भोपाल: कांग्रेस विधायक हेमंत कटारे को ब्लैकमेल कर 5 लाख रुपए लेते रंगेहाथों पकड़ी गई छात्रा को अदालत ने सोमवार रात जमानत दे दी। न्यायाधीश एसबी साहू ने उसे एक लाख रुपए की जमानत और इतनी ही राशि का मुचलका प्रस्तुत करने पर रिहा करने के आदेश दिए। मंगलवार को वह बाहर आ सकती है। क्राइम ब्रांच ने 24 जनवरी को उसे गिरफ्तार किया था। इससे पहले पुलिस ने धारा 164 के तहत मजिस्ट्रेट के सामने उसके बयान भी दर्ज कराए।

फिलहाल आपको बता दें कि मध्यप्रदेश के भिंड जिले के अटेर विधानसभा क्षेत्र के विधायक हेमंत कटारे के खिलाफ दुष्कर्म और अपहरण का प्रकरण दर्ज होने के बाद राज्य की सियासत गरमा गई है। भाजपा ने इस मामले केा गंभीर बताया है तो कांग्रेस इसे राजनीतिक साजिश मान रही है। कटारे के खिलाफ एक महिला और उसकी बेटी प्रयांशु सिंह के द्वारा अलग-अलग दर्ज कराई गई शिकायतों के आधार पर अपहरण और दुष्कर्म का अलग-अलग थानों में प्रकरण दर्ज किया गया है। प्रयांशु सिंह पर विधायक का ब्लैकमेल करने का आरोप है और वह इन दिनों जेल में है।

प्रयांशु द्वारा जेल से पुलिस को लिखे गए एक पत्र के आधार पर पुलिस ने दुष्कर्म का प्रकरण कटारे के खिलाफ दर्ज किया है। भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा है कि यह मामला गंभीर है, युवती ने शिकायत दर्ज कराई है। इस मामले की जांच होना चाहिए। वहीं कांग्रेस ने इस पूरे मामले को राजनीतिक साजिश करार दिया है। प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव और नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कांग्रेस विधायक हेमंत कटारे मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग की है। उनका आरोप है कि इस पूरे मामले में साजिश और राजनीतिक दुर्भावना स्पष्ट दिखलाई दे रही है।

नेता प्रतिपक्ष सिंह ने कहा है कि कांग्रेस विधायक कटारे के ऊपर नौ दिन बाद दुष्कर्म, अपहरण और धमकी देने की एफआईआर दर्ज करना राजनीतिक साजिश है। पुलिस ने इस पूरे ब्लैकमेलिंग कांड के भाजपा से जुड़े मुख्य आरोपी को पकड़ा नहीं और विधायक कटारे जो फरियादी है, उन्हीं के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर दिया गया। सिंह ने आरोप लगाया कि पुलिस की अपराध शाखा ने जांच के बाद ही युवती और भाजपा नेता विक्रमजीत सिंह को दोषी पाया था। उसके बाद युवती और उसकी मां का वीडियो भी सामने आया, जिसमें कांग्रेस विधायक हेमंत कटारे को निर्दोष बताया। लड़की की मां ने भाजपा नेता विक्रमजीत सिंह का नाम लिया कि उसने यह पूरी साजिश रची।

पुलिस ने इस पूरे मामले में असली अपराधी को पकड़ने के बजाय युवती और उसकी मां को डरा धमकाकर दुष्कर्म और अपहरण का मामला दर्ज करवाया। गौरतलब है कि पत्रकारिता की छात्रा पर विधायक कटारे ने ब्लैकमेल करने का आरोप लगाते हुए पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। छात्रा ने इस संबंध में एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल किया था, जिसमें उसने कटारे पर तमाम आरोप लगाए थे। हालांकि, इसके बाद एक अन्य वीडियो में उसने पहले जारी वीडियो में लगाए गए आरोपों को मजाक बताते हुए कटारे से माफी भी मांगी थी।

कटारे की शिकायत के आधार पर पुलिस की अपराध शाखा ने 24 जनवरी की देर शाम छात्रा को कटारे से पांच लाख रुपये लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा था। उसके बाद से छात्रा केंद्रीय जेल भोपाल में है। वहीं से उसने एक पत्र पुलिस को लिखा, जिसके आधार पर कटारे के खिलाफ प्रकरण दर्ज हुआ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper