वेलेंटाइन डे और वास्तु: बटरफ्लाई से उड़ाएं किस्मत

वेलेंटाइन डे का जितना क्रेज कुंवारे लोगों में होता है, उतना ही शादीशुदा लोगों में भी होता है। हालांकि कभी-कभी रिश्तों में मिठास या रूमानियत कम हो जाती है या फिर नाराजगी बढ़ जाती है, तो मन काफी व्याकुल रहता है। अगर आप अपने रिश्तों में प्यार की मिठास घोलना चाहते हैं, तो आपको अपने बेडरूम को कुछ खास अंदाज में सजाना होगा। दरअसल, गलत वास्तु को सही वास्तु से सुधार कर आप अपने रिश्ते में प्यार ला सकते हैं।
बेडरूम में प्यार करते कपल्स की फोटो, राधा-कृष्ण के प्रेमालाप की तस्वीर या लविंग बर्ड की फोटो को लगाएं। ये तस्वीरें हमेशा सिराहने के पास हों, न की पैरों की ओर।
बेडरूम की खिड़की दूसरे कमरे में न खुले, न ही बेड से एकदम सटी हो।
चांदी की कटोरी में कपूर रख कर जलाएं। यह प्रेम बढ़ाने का काम करता है।
बेडरूम की चादरें और तकिया गुलाबी रंग का रखें। कमरे की लाइट भी गुलाबी रखें। गुलाबी रंग प्यार बढ़ाने वाला होता है।
हमेशा दक्षिण या पूर्व दिशा में सिर करके सोएं।
पत्नी को हमेशा पति के बायीं ओर सोना चाहिए।
बेडरूम में बेड पर गद्दा एक होना चाहिए। दो गद्दे हों, तो उसे बदल दें। ओढऩे की कंबल या चादर भी एक ही होनी चाहिए। ठ्ठ

बटरफ्लाई से उड़ाएं किस्मत

वास्तुशास्त्र में बटरफ्लाई का बहुत महत्व है, क्योंकि यह प्रेम का प्रतीक होती है। इस वेलेंटाइन डे पर अपने लवर या पार्टनर को बटरफ्लाई से जुड़ा कोई गिफ्ट दें। इससे पॉजिटिव एनर्जी हमेशा उनके साथ रहेगी।
अगर आपकी शादी हो चुकी है और अपने वैवाहिक जीवन को खुशियों से भरना चाहते हैं, तो बटरफ्लाई को बेडरूम की दीवार पर लगाकर रखें।
अगर आप नीले पत्थर से बनी बटरफ्लाई का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो दो बटरफ्लाई को साथ रखें। इससे प्रेम में वृद्धि होती है।
वेलेंटाइन डे वाले दिन अपने प्रेमी या प्रेमिका को बटरफ्लाई वाला चाबी का छल्ला गिफ्ट करें। इससे आपके बीच नजदीकियां बढ़ेंगी।
अगर आप चाहें, तो अपने पार्टनर को बटरफ्लाई वाली ज्वेलरी भी गिफ्ट कर सकते हैं। इससे आपके जीवन में प्रेम का संचार होगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper