शरीर के इस अंग से कोरोना होने का सबसे ज्यादा खतरा, एक गलती पड़ सकती है जान पर भारी

कोरोना वायरस की शुरुआत से ही हिदायत दी जा रही है की अपने नाक और मुंह को मास्क से ढंक कर रखे | साथ ही चेहरे को छूने को लेकर भी मनाही की जा रही है | लेकिन इन सबके बीच हमारे शरीर का एक अंग खुला रहता है, इसकी वजह से कोरोना से संक्रमित होने का खतरा बहुत ज्यादा है |

हम जिस अंग की बात कर रहे है, वह है आँखे | हमारी आँखों की सुरक्षा उतनी ही जरुरी है, जितनी नाक और मुख की सुरक्षा | ऐसे में कोरोना से बचने के लिए कर रहे अन्य उपायों में आप आँखों को नजरअंदाज बिलकुल ना करे |

एक पत्रिका द लेसेन्ट में छपी खबर के अनुसार कोरोना से बचने में आँखों की सुरक्षा अगला कदम है | बता दे निकला गया ये निष्कर्ष 16 देशो में की गयी, 170 स्टडीज पर आधारित है |

जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी की गयी स्टडी में दावा किया गया है कि कोरोना आँख के जरिये भी फ़ैल सकता है | ऐसे में इससे बचने के लिए आँखों की सुरक्षा करना बेहद जरुरी है, तभी कोरोना से बचा जा सकता है |

स्टडी में बताया कि अगर कोई कोरोना से संक्रमित व्यक्ति आपके आस-पास छींकता या खांसता है, तो संक्रामक बूंदें आपकी आंखों के जरिए कोशिकाओं पर हमला कर सकती हैं | ऐसे में नाक और मुंह की तरह आंखों की सुरक्षा करने से कोरोना वायरस का खतरा कम हो जाता है |

ऐसे में पत्रिका में वाइजर, फेस शील्ड और चश्मे पहनने का सुझाव दिया है | लेकिन चश्मे को लेकर फिर भी खतरा बना रहता है, क्योंकि चश्मे के किनारे खुले रहते है, जिस वजह से कोरोना से संक्रमण होने का खतरा बढ़ जाता है |

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper