शादी के एक दिन पहले हर लड़की के दिमाग में ये बात जरूर आती है

आज के समय में ज्यादातर युवा लव मैरिज पर ज्यादा विश्वास करते हैं उनका मानना होता है कि लव मैरिज में वो एक-दूसरे को जानते हैं तो पूरी जिंदगी एक साथ रह सकते हैं, वहीं पहले के समय की बात करें तो शादी के वक्त लड़कियों को लड़के का फोटो ही दिख जाना बहुत बड़ी बात होती थी. आज के समय में लड़का-लड़कियों के लिए शादी आम बात है लेकिन पहले लड़कियां शादी करने से बहुत घबराती थी. उन्हें एक ही बात अंदर-अंदर खाये जाती है और उसी के बारे में सोचती रहती हैं.

कैसा घर होगा

पहले लड़कियां इसी सोच में रहती थी कि पता नहीं उनके ससुराल में उनके साथ कैसा व्यवहार होगा, हालांकि आज भी लड़िकयां सोचती हैं लेकिन बहुत कम…लड़कियों को डर लगता था कि पता नहीं कौन सी बातें उनके लिए ससुराल में करना लोगों को ठीक लगेगा और कौन सी बातें लोगों को बुरी लग सकती हैं.

पति कैसा होगा

लड़कियां अपने पति के बारे में तरह-तरह के विचार करती हैं कि पति ज्यादा गुस्से वाला ना हो या फिर लड़ाई-झगड़ा करने वाला ना हो. ससुराल में लड़कियों को सबसे ज्यादा पति पर ही विश्वास होता है, क्योंकि वो उनके बहुत करीब होता है और वो ही उऩ्हें समझ सकता है.

शादी का खर्च

शादी से पहले लड़कियां अपने ससुराल की चिंता करने से पहले अपने मायके की चिंता भी करती हैं कि उनकी शादी करवाने में माता-पिता का बहुत खर्च हो गया है. इसके अलावा अगर कोई लड़का मांग करता है तो उस लड़की को सबसे ज्यादा खर्च की चिंता होने लगती है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper