शाहिद की दूसरी संतान का नाम ‘जैन’ क्यों रखा, हुआ खुलासा

मुंबई: शाहिद कपूर और मीरा राजपूत एक और संतान के माता-पिता बन गए हैं। दोनों ने अपनी दूसरी संतान का नाम जैन कपूर रखा है। जिसे लेकर बॉलीवुड में चर्चाएं आम हो गई हैं कि आखिर इन्होंने बेटे का नाम जैन ही क्यों रखा है। वैसे आपको बतला दें कि मीरा और जैन अब हॉस्पिटल से अपने घर पहुंच गए हैं। शाहिद की दूसरी संतान का नाम जैन रखे जाने को लेकर अब शाहिद की मां नीलिमा अजीम ने खुलासा किया है।

खबरों के मुताबिक नीलिमा ने कहा है कि शाहिद की अगली संतान का नाम जैन होगा इस बात का फैसला मीरा ने बेटे के जन्म से पहले ही कर लिया था। बकौल नीलिमा ‘जब मीशा का जन्म होना था तब भी यह तय था कि लड़की हुई तो मीशा नाम रखा जाएगा और लड़का हुआ तो जैन होगा। इस बार मुझे लग रहा था कि दोनों को बेटा होगा। मैंने ऐसा सपना भी देखा था।’

भगवा रंग को इस बार कड़ी चुनौती

नीलिमा ने नाम का खुलासा करते हुए यहां तक बताया कि उन्होंने तो शाहिद को चार नाम मेरे पसंद के बताए थे जिनमें शाहिद, ईशान, जैन, कामरान थे। इनमें से जैन नाम फाइनल कर लिया गया। बहरहाल अब शाहिद की दूसरी संतान का नाम का भी खुलासा हो गया है ऐसे में तमाम चाहने वाले उन्हें बधाई दे रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper