शिखर पर सिंधु

लखनऊ: ‘म्हारी छोरियां क्या छोरों से कम हैं’ फिल्म ‘दंगल’ का यह डायलॉग जब आमिर खान बोलते हैं, तो दर्शकों का सीना 56 इंच का हो जाता है। आमिर के इसी डायलॉग पर खरी उतरी हैं पीवी सिंधु। साइना नेहवाल को आदर्श मानने वाली सिंधु आज उस मुकाम पर खड़ी हैं, जहां आज तक कोई भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी नहीं पहुंच सका।

वक्त के साथ बहुत कुछ बदलता है, लेकिन कुछ बातें जस की तस रहती हैं। पिछले कुछ सालों में उभरती प्रतिभा के तौर पर पीवी सिंधु का नाम लोगों के सामने आया था। उस वक्त साइना नेहवाल ने बैडमिंटन को नई ऊंचाइयां दी थीं और सिंधु के लिए साइना हमेशा एक आदर्श रही हैं। एक-एक सीढ़ी चढ़तीं सिंधु आज ऐसी ऊंचाई पर खड़ी हैं, जहां उनके फाइनल मैच का बड़ी बेसब्री से इंतजार क्रिकेट स्टार विराट कोहली को भी था। इतना ही नहीं, कोहली ने सिंधु को बधाई देते हुए एक वीडियो भी ट्वीट किया। यह कारनामा सिंधु ने 16 दिसम्बर (रविवार) को वल्र्ड टूर फाइनल्स के खिताबी मुकाबले में जापान की नोजोमी ओकुहारा को सीधे गेमों में हराकर किया। इसी के साथ सिंधु यह खिताब जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गई हैं। दरअसल, छुट्टी का दिन (रविवार) था और हर किसी की नजरें टीवी पर गड़ी थीं। एक घंटे तक चले मुकाबले में शुरुआत से ही सिंधु ने 14-6 की बढ़त बना ली थी। लेकिन इसके बाद जापानी खिलाड़ी ने जोरदार वापसी की। उन्होंने 12 में से 10 अंक जीते और 16-16 के स्कोर पर सिंधु की बराबरी कर ली। सिंधु ने इसके बाद फिर लय हासिल करते हुए वल्र्ड टूर फाइनल्स 21-19 से जीतकर तिरंगा फहरा दिया। वर्ष 2018 में जीता हुआ यह सिंधु का पहला टूर्नामेंट है।

काफी समय से बड़े टूर्नामेंटों के फाइनल में जीत दर्ज करने में नाकाम हो रहीं पीवी सिंधु का विनिंग शॉट लगाने के बाद वही हाल था, जैसा ऐश्वर्या राय का मिस वल्र्ड का खिताब जीतने के बाद था। सिंधु के आंसुओं का सैलाब रुकने का नाम नहीं ले रहा था, क्योंकि उन्होंने अपनी आईकॉन साइना नेहवाल का यह टूर्नामेंट जीतने का अधूरा सपना भी पूरा कर दिया। साइना नेहवाल 2011 में विश्व सुपर सीरीज फाइनल्स के फाइनल में पहुंची थी, जबकि 2009 में ज्वाला गुट्टा और वी. दीजू की जोड़ी मिश्रित युगल में उपविजेता रही थी। सबसे बड़ी बात तो यह है कि इस टूर्नामेंट में जीत के बाद सिंधु ने रैंङ्क्षकग्स के शिखर तक पहुंचने की ओर लंबी छलांग लगाई है। वर्तमान में दुनिया में नंबर-6 को पोजीशन पर काबिज सिंधु के खाते में कुल 81,614 प्वॉइंट्स हैं। वल्र्ड टूर फाइनल्स जीतने पर सिंधु को 12 हजार प्वॉइंट्स और मिल गए हैं। अब जब बैडमिंटन वल्र्ड रैंङ्क्षकग्स अपडेट होगी, तब वह 93,614 प्वॉइंट्स के साथ दूसरे नंबर पर पहुंच जाएंगी। सिंधु कहती है, बैडमिंटन खेलना मेरा जुनून है। जाहिर सी बात है, जब भी मैं कोई टूर्नामेंट जीतती हूं, मुझे बहुत संतुष्टि मिलती है। आने वाले समय में अच्छा प्रदर्शन करने का हौसला भी हर जीत के साथ बढ़ता जाता है। मुझे फैंस की उम्मीदों का अंदाजा है और मैं यह भी जानती हूं कि अब बैडमिंटन को लेकर भारतीय फैंस की उम्मीदें और बढ़ गई हैं।

सिंधु ने 11 बीडब्ल्यूएफ सिंगल्स खिताब जीते हैं, जबकि 14 बार किसी टूर्नामेंट के फाइनल में वह रनरअप रही हैं। उन्होंने दूसरी बार किसी टूर्नामेंट के फाइनल में ओकुहारा को हराया है। भारतीय खिलाड़ी ने पिछले साल कोरिया ओपन के फाइनल में भी इस जापानी खिलाड़ी को हराया था। भारतीय बैडमिंटन संघ (बाई) ने सिंधु को इस ऐतिहासिक सफलता के लिए 10 लाख रुपए का नकद पुरस्कार देने की घोषणा की है। टूर्नामेंट में उन्होंने गजब की लय दिखाते हुए वल्र्ड नंबर 1 चीनी ताइपे की ताइ जू यिंग, वल्र्ड नंबर 2 जापान की अकाने यामागुची, वल्र्ड नंबर 5 जापान की नोजोमी ओकुहारा, वल्र्ड नंबर 8 थाईलैंड की रत्चानेक इंतानोन को हराया था।

फैशन आईकॉन भी हैं सिंधु : सिंधु बैडमिंटन के लिए तो हमेशा सुर्ख़ियों में रहती ही हैं, लेकिन फैशन के मामले में भी वह किसी मॉडल या एक्ट्रेस से पीछे नहीं हैं। सिंधु के फैंस को जितनी उनकी परफॉर्मेंस का इंतजार रहता है, उतना ही उनकी ग्लैमरस तस्वीरों का भी बेसब्री से इंतजार रहता है। तस्वीरों में वह ट्रेडिशनल से लेकर वेस्टर्न ड्रेसेज में नजर आ चुकी हैं। हाल ही में करण जौहर के चैट शो ‘कॉफी विद करण-6’ में आयुष्मान खुराना ने करण के रैपिड फायर राउंड के दौरान पूछे गए सवाल पर कहा कि अगर वह सिंगल होते, तो पीवी सिंधु को डेट करते, क्योंकि वह उन्हें बहुत हॉट लगती है। इसके अलावा पीवी सिंधु सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं। वह अक्सर अपनी तस्वीरें सोशल मीडिया पर फैंस के साथ साझा करती हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
loading...
E-Paper