शिलाजीत से भी कई गुणा ज्यादा लाभदायक है इस पौधे की पत्तियां, जानिए इसका नाम

तुलसी – (ऑसीमम सैक्टम) एक द्विबीजपत्री तथा शाकीय, औषधीय पौधा है। यह झाड़ी के रूप में उगता है और 1 से 3 फुट ऊँचा होता है। इसकी पत्तियाँ बैंगनी आभा वाली हल्के रोएँ से ढकी होती हैं। पत्तियाँ 1 से 2 इंच लम्बी सुगंधित और अंडाकार या आयताकार होती हैं। पुष्प मंजरी अति कोमल एवं 8 इंच लम्बी और बहुरंगी छटाओं वाली होती है, जिस पर बैंगनी और गुलाबी आभा वाले बहुत छोटे हृदयाकार पुष्प चक्रों में लगते हैं।

जानें तुलसी की पत्तियों के लाभ-

1) दांतों और त्वचा को रखे स्वस्थ- आयुर्वेद की माने तो सुबह बासी मुंह इसकी पत्तियां चबाने से दांतों में कीड़े नही लगते है और दांत मजबूत होते है। तुलसी में थाईमोन नाम का तत्व होता है। जो आपकी त्वचा के लिए बहुत अच्छा होता है। इनकी पत्तियों को पीसकर कील मुंहासों पर लगाने से वो जल्दी ही ठीक हो जाते हैं। तुलसी की पत्तियों को नियमित खाने से चेहरे पर चमक बढ़ती है।

2) पेशाब सम्बन्धी परेशानियों का समाधान- अगर किसी को पेशाब से सम्बन्धित परेशानी हो तो उसमे तुलसी बहुत लाभकारी है। इसके लिए नियमित तुलसी के पत्ते चबाने चाहिए। तुलसी के पत्तों को चबाने से महिलाओं को पीरियड्स सम्बन्धी परेशानियाँ नही होती हैं।
3) शारीरिक ताकत बढ़ाने के लिए- कमजोरी दूर करने के लिए शिलाजीत का सेवन करने वालों पुरुषों के लिए तुलसी बहुत लाभदायक है। ऐसे पुरुषों को तुलसी की पत्तियां प्रतिदिन सुबह चबानी चाहिए। इससे उन्हें शिलाजीत से भी ज्यादा फायदा मिलेगा।

4) मौसमी बीमारियों में- तुलसी के पत्तों का काढ़ा पीने से मानसिक तनाव दूर होता है। मौसम बदलने से होने वाली परेशनियाँ जैसे खांसी, बुखार और सिरदर्द में तुलसी लाभकारी होती है। इसके लिए तुलसी कुछ पत्तियों को काली मिर्च, काला नमक और अदरक के साथ पानी में उबालकर उस पानी को पीना चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper