शिवराज सरकार ने पेश किया 11 हजार करोड़ का अनुपूरक बजट

भोपाल: मध्य प्रदेश विधानसभा का पांच दिवसीय मानसून सत्र सोमवार से हंगामे के साथ शुरू हुआ। वित्‍त मंत्री जयंत मलैया ने सदन में 11 हजार 190 करोड़ का अनुपूरक बजट पेश किया। नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने सदन में अविश्‍वास प्रस्‍ताव पेश कर सरकार से ई-टेंडर में हुए घोटाला सहित अन्‍य मुद्दों पर चर्चा की मांग की।

नेता प्रतिपक्ष सिंह ने कहा कि विपक्ष के सवालों का जवाब देने से सरकार भाग क्‍यों रही है। इस पर संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्‍तम मिश्र ने कहा कि जो घर में विश्‍वास नहीं ला पा रहे हैं, वे सदन में अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर चर्चा कराना चाह रहे हैं, हालांकि विपक्ष ने जिन मुद्दों पर चर्चा चाही है, उन पर पहले ही चर्चा की जा चुकी है। इसी दौरान भारी हंगामे के बीच सरकार के अंतिम विधानसभा सत्र के पहले दिन वित्त मंत्री मलैया ने 11 हजार 190 करोड़ का अनुपूरक बजट पेश किया।

बजट में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं को अतिरिक्त मानदेय देने के लिए 130 करोड़, अध्यापकों को 7वां वेतनमान का लाभ देने 299 करोड़, जनजातीय कार्य विभाग के अध्यापकों को 7वें वेतनमान के लिए 204 करोड़, प्याज और लहसुन की फसल पर प्रोत्साहन राशि देने 448 करोड़ों रुपये, मनरेगा के लिए सरकार ने 500 करोड़ और पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अंतर्गत सचिव व्यवस्था के लिए 360 करोड़ रुपये का प्रावधान किया। इस पर भी मंगलवार को चर्चा की जाएगी।

इस बार 25 जून से शुरू हुआ पांच दिवसीय सत्र 29 जून तक चलेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper