सड़क हादसों में होने वाली मौतों में आई कमी, पंजाब में हुआ सबसे ज्यादा सुधार

नई दिल्ली: सड़क हादसों में होने वाली मौतों में इस साल उल्लेखनीय कमी दर्ज की गई है। सन 2017 की तीन तिमाहियों का आकलन पिछले साल सन 2016 की समान अवधि की तीन तिमाहियों से की जाए, तो पता चलता है कि सड़क हादसों में मरने वाले लोगों की संख्या में 5000 की कमी आई है। सड़क सुरक्षा पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित पैनल के साथ सरकार ने यह डाटा साझा किया है।

डाटा के मुताबिक, सड़क दुर्घटनाओं के कारण होने वाली मौतों में हालिया आंकड़ा पिछले सालों की तुलना में बेहतर है। सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों के लिहाज से सबसे ज्यादा सुधार पंजाब में देखने को मिला है। यहां सड़क हादसों में 14.4 फीसदी की गिरावट आई है। पश्चिम बंगाल में भी 13.7 फीसदी की कमी दर्ज की गई है। इस साल अब तक महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 807 लोगों ने सड़क दुर्घटनाओं के कारण अपनी जान गंवाई है।

इसके बाद गुजरात का नाम आता है, जहां 775 लोगों की जान गई। केंद्र शासित प्रदेशों में राजधानी दिल्ली का आंकड़ा भी सुधरा है। यहां साल 2016 में कुल 1212 लोगों की जान गई थी। वहीं इस साल 1093 लोगों की जान गई। वहीं जनवरी से सितंबर 2017 के दौरान चंडीगढ़ में सड़क हादसों के कराण होने वाली मौतों में 25.2 फीसदी की कमी हुई है।

इस कड़ी में बिहार में हालात पहले से भी ज्यादा खराब हुए हैं। इस साल यहां सड़क दुर्घटनाओं में 378 लोग अपनी जान से हाथ धो बैठे, इसके बाद उड़ीसा की स्थिति भी चिंताजनक बनी हुई है। यहां हादसों में होने वाली मौतों में 50 फीसदी का उछाल आया है। सन 2016 में यहां जहां 3306 लोगों की जान गई थी, वहीं इस बार अब तक 3495 लोग जान गंवा चुके हैं। सड़क परिवहन मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया, ‘देशभर में सड़क दुर्घटनाओं के कारण होने वाली मौतों में आई कमी से यह साफ है कि राज्यों के प्रयासों के कारण आंकड़ों में सुधार आया है।

उल्लेखनीय है कि दुनिया सड़क दुर्घटनाओं में सबसे ज्यादा मौतें भारत में होती हैं। सड़क दुर्घटना के कारण होने वाली हर दस में एक मौत भारत में ही होती है। वैश्विक सड़क सुरक्षा विशेषज्ञों के मुताबिक, जब तक भारत अपने सड़क दर्घटना के कारण होने वाली मौतों के रेकॉर्ड में सुधार नहीं लाता है, तब तक वैश्विक स्तर पर सड़क दुर्घटनाओं के कारण होने वाली मौतों को आधा करने का लक्ष्य हासिल करना संभव नहीं है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper