समाजवादी पार्टी ही भाजपा को करेगी परास्त: अखिलेश

लखनऊ। पूर्वांचल के बड़े नेता के रूप में पहचान रखने वाले पूर्व सांसद रमाकांत यादव अपने समर्थकों के साथ रविवार को समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उन्हें प्राथमिक सदस्यता दिलाई। इस मौके पर बड़ी संख्या में उनके समर्थक मौजूद थे। रमाकांत यादव के साथ ही कई बसपा नेता भी अपने समर्थकों के साथ सपा में शामिल हो गए। इस दौरान अखिलेश यादव ने कहा कि रमाकांत यादव के आने से पार्टी को मजबूती मिली है। इस मौके पर फूलन देवी की बहन रुक्मण निषाद भी समाजवादी पार्टी में शामिल हो गईं।

अखिलेश ने कहा कि योगी सरकार के अब 800 दिन बचे हैं। इसके बाद सरकार चली जाएगी। समाजवादी पार्टी ही बीजेपी को परास्त करेगी। अखिलेश यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में पावर प्रेजेंटेशन के जरिये मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की विधानसभा में कही प्रमुख बातें दिखाई। उन्होंने कहा कि योगी सरकार ने हमारी सरकार के कार्यों को अपना बताया है, जो गलत है। अखिलेश ने कहा कि गांधीजी की 150 जयंती मनाई गई, जिसमें सत्र चला पर भाजपा सत्य और अहिंसा का पालन नहीं करती है। राम मंदिर मामले पर अखिलेश यादव ने कहा कि हमें संविधान पर भरोसा है, जो कोर्ट फैसला करेगा हम मानेंगे। मुख्यमंत्री को कैसे पता कि क्या फैसला आ रहा है।

ट्रेनों के निजीकरण पर सपा मुखिया ने कहा, महात्मा गांधी को सब जानते हैं, उन लोगों ने संकल्प किया था कि विदेशी चीज नहीं लेंगे। लेकिन अब स्थिति विपरीत है। अखिलेश कहा कि नोटबंदी रात में हुई, जीएसटी रात में हुई, क्या हाल हुआ सब जानते हैं। सदन भी रात में चला रहे थे, ये सब रात में क्यों करते हैं। नीति आयोग ने कहा है कि शिक्षा में यूपी नीचे से नम्बर एक पर है। जबकि कुपोषण में हम नम्बर एक हो गए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper