सम्पति के लिए बेटियों ने की पिता की हत्या, छोटी बहन ने दी तहरीर

आगरा: जनपद के थाना फतेहपुर सीकरी में रविवार सुबह सम्पति के लिए पिता की हत्या कर चुपके से दाह संस्कार करने का मामला सामने आया है। हत्या का आरोप मृतक की छोटी बहन ने अपनी सगी तीन बड़ी बहनों पर लगाया है। पीड़ित की तहरीर पर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

गांव जाजऊ में आठ दिन पूर्व तीन पुत्रियों ने चुपके से अपने पिता से पूरी जमीन अपने नाम कराकर उसे मौत के घाट उतार दिया। घटना से पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गई। इसकी खबर जब चौथी पुत्री को हुई तो वह शव को देखने के लिए पैतृक गांव पहुंच गई। लेकिन इससे पूर्व ही तीनों पुत्रियों ने शव का दाह संस्कार कर दिया था। जिसके बाद चौथी पुत्री ने इसकी शिकायत थाना पुलिस से की है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

थाना फतेहपुर सीकरी के गांव औलेण्डा निवासी रामभरोसी पुत्र रतीराम किसान थे। उनका एक भी पुत्र नहीं था। चार पुत्रियां ही थी। जिनमें सोनिया, मंजू, पिंकी व संजू है। उनके हिस्से में गांव में ही 16 बीघा जमीन थी। उन्होंने चारो पुत्रियों को बराबर—बराबर हिस्सा देने की बात पहले से वे बोले थे। लेकिन यह बात जाजऊ निवासी सबसे छोटी बेटी सोनिया पत्नी डोरीलाल को रास नहीं आई। छोटी बहिन का आरोप है कि उसने अपने पिता को 14 मार्च को किरावली तहसील बुलवा लिया तथा 16 बीघा में सात बीघा जमीन अपने नाम करवा ली।

प्राप्त जानकारी के अनुसार इसकी खबर 14 दिन बाद आगरा के शाहगंज निवासी मंजू देवी पत्नी जुगल किशोर और पिंकी तिवारी पत्नी मुकेश को हुई तो तीनों बहनों की आपस में पंचायत हुई। पंचायत में फैसला लिया कि बाकी बची जमीन तुम दोनों अपने नाम से करवा लो। इस पर तीनो बहनों में राजीनामा हो गया। इसके बाद मंजू और पिंकी भी पिता को लेकर 28 मार्च को किरावली तहसील पहुंच गई। वहां पर दोनों ने बाकी रही जमीन भी अपने नाम करवा ली।

चुपके से सारी जमीन नाम करवाने का षडयंत्र जब फतेहपुर सीकरी के गांव उन्देरा निवासी दूसरे नम्बर की बेटी संजू पत्नी स्व0 अशोक कुमार को पता चला तो वह तीनों बहनों के पास पहुंची और अपना हिस्सा मांगा। लेकिन तीनों बहनों ने हिस्सा देने से मना कर दिया। जिसके बाद वह तीनों सभ्रान्त लोगों की पंचायत की बात बोलकर उन्देरा वापस आ गई। संजू देवी का आरोप है कि पंचायत की बात सुनकर तीनों बहनों के होश फख्ता हो गए थे।

जिससे उन्होने 30 मार्च को पिता की गला दबाकर हत्या कर दी। हत्या करने के बाद शव को जाजउ से पैतिृक गांव औलेण्डा ले गए। वहां पर आनन-फानन में तीनों बहनों के पतियों ने मिलकर पिता का अंतिम संस्कार कर दिया। बेटी संजू जब मौके पर पहुंची तो पिता की राख भी ठंडी पड़ चुकी थी। इस बात की खबर जब क्षेत्रीय लोगों को हुई तो क्षेत्र में सनसनी फैल गई।

तीनों बहनों के पतियों ने मौके पर संजू देवी को कानूनी कार्रवाई करने पर देख लेने की धमकी दी। विधवा होने की वजह से आठ दिन तक बेटी डर की वजह घर से बाहर नहीं निकली। आठ दिन बाद पिता और अपने साथ हुए अन्याय के लिए न्याय मांगने के लिए मामले की शिकायत लेकर रविवार को थाना फतेहपुर सीकरी पहुंच गई। थाने पर पीड़िता ने तीनों बहनों के खिलाफ धोखे से जमीन नाम कराने और अपने पिता को जान से मारने की तहरीर पुलिस को दी है। इंस्पेक्टर फतेहपुर सीकरी प्रदीप कुमार ने बताया है कि मामले में पीड़िता ने तहरीर दी है। जांच की जा रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper