सरकारी बैंकों की FD से जल्दी डबल होंगे पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में पैसे, जानिए कैसे

पोस्ट ऑफिस में स्माल सेविंग्स के लिए कई स्कीम है, जिसमें एफडी करने की भी सुविधा शामिल है। बैंक की तरह पोस्ट ऑफिस में भी आप एफडी कर सकते हैं। पोस्ट ऑफिस में टाइम डिपॉजिट के नाम से यह स्कीम उपलब्ध है, जिसमें 1 साल, 2 साल, 3 साल और 5 साल के लिए पैसे जमा कर सकते हैं। फायदा यह है कि यहां बैंक की तुलना में एफडी पर ब्याज दर 1 फीसदी ज्यादा है। एसबीआई में जहां 5 साल की एफडी पर 507 फीसदी सालाना ब्याज है। वहीं पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट के तहत 5 साल की जमा पर 6.7 फीसदी सालाना ब्याज मिल रहा है। अगर आप भी इस योजना का फायदा उठाना चाहते हैं तो इस बारे में हर डिटेल जानना चाहिए।

Double your money! This Post Office scheme offers better interest ...

1 अप्रैल से नई ब्याज दरें

अवधि                         ब्याज

1 साल की एफडी         5.5%
2 साल की एफडी        5.5%
3 साल की एफडी        5.5​%
5 साल की एफडी        6.7​%

Best Post office saving schemes | Post office deposit schemes ...

5 लाख की जमा पर 5 साल में कितनी मिलेगी रकम

जमा: 5 लाख
ब्याज दर: 6.7 फीसदी सालाना
मेच्योरिटी पीरियड: 5 साल
मेच्योरिटी पर रकम: 6,91,500
ब्याज का फायदा: 1,91,500

Government Increases Interest Rates on Post Office Small Savings ...

कितने दिन में डबल होगी रकम
6.7 फीसदी सालाना ब्याज दर ​के हिसाब से पोस्ट आफिस में जमा रकम दोगुनी होने में करीब 10.74 साल यानी करीब 129 महीने लग जाते हैं।

एसबीआई में कितने दिन में रकम डबल
एसबीआई में 5.7 फीसदी सालाना ब्याज के हिसाब से 12.63 साल यानी करीब 152 महीने लग जाते हैं। साफ है कि डाकघर की तुलना में एसबीआई में रकम दोगुनी होने में 2 साल ज्यादा लगता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper