सर्वाइवर बनी हेल्पर

पहले खुद एसिड अटैक की मार सहना और फिर इसी तरह की अन्य सर्वाइवर्स की मदद करना आसान बात नहीं है। लेकिन प्रज्ञा प्रसून सिंह ने यह कर दिखाया है। प्रज्ञा खुद एक एसिड अटैक सर्वाइवर हैं और अब वह अपने फाउंडेशन की मदद से इस तरह की सर्वाइवर्स की मदद कर रही हैं। वह देश में स्किन डोनेशन का प्रचलन भी बढ़ाना चाहती हैं, जिससे एसिड अटैक सर्वाइवर को इलाज में मदद मिल सके। शादी से इनकार करने पर एक रिश्तेदार ने वर्ष 2006 में वाराणसी से दिल्ली जाने के दौरान प्रज्ञा पर एसिड अटैक किया था।

इसके बाद प्रज्ञा का इलाज दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में चला, जहां उनकी दो सर्जरी हुई। प्रज्ञा को ठीक होने में उनके परिवार और पति ने खूब साथ दिया। एसिड अटैक सर्वाइवर्स की मदद करने के उद्देश्य से प्रज्ञा ने वर्ष 2013 में अतिजीवन फाउंडेशन की नींव रखी थी। फाउंडेशन वर्कशॉप का आयोजन करता है, जो मुख्यत: अस्पतालों में आयोजित की जाती हैं। इसके अलावा फाउंडेशन सर्वाइवर्स को स्किल्स की भी ट्रेनिंग देता है। फाउंडेशन अब दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, हैदराबाद, बैंगलोर, पटना, लखनऊ और वाराणसी जैसे शहरों में काम कर रहा है। इसके साथ बड़ी संख्या में सर्वाइवर्स भी जुड़े हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper